आगरा की जनसभा में अखिलेश यादव का तंज..कहा-आपसी प्रेम सद्भाव को मिटाने पर लगी है भाजपा

डीएन ब्यूरो

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज आगरा में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान अखिलेश यादव ने भाजपा पर करारा हमला बोला। डाइनामाइट न्यूज़ की इस एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में पढ़ें क्या-क्या कहा है अखिलेश यादव ने..

जनसभा को संबोधित करते अखिलेश यादव
जनसभा को संबोधित करते अखिलेश यादव

आगरा: तपती धूप में पसीने से तरबतर महागठबंधन कार्यकर्ता सपा मुखिया अखिलेश यादव को सुनने के लिए बेताब दिखे। 18 तारीख को दूसरे चरण का मतदान होना है। जिसके लिए सभी राजनीतिक दल पूरे जोश-खरोश के साथ चुनावी मैदान में पसीना बहा रहे हैं। 

आगरा के कोठी मीना बाजार मैदान में सपा, बसपा, रालोद गठबंधन की रैली हो रही है। रैली में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया अजित सिंह समेत आगरा और फतेहपुर सीकरी लोकसभा सीट के दोनों गठबंधन प्रत्याशी मौजूद हैं। 

जैसे ही मंच पर अखिलेश यादव आए जबरदस्‍त तरीके से सपा के समर्थन में नारे लगने लगे। साथ ही महागठबंधन के कार्यकर्तायों ने गठबंधन को जिताना है बीजेपी को हराना है और जो गठबंधन से टकराएगा चूर-चूर हो जाएगा के नारे पूरे जोश के साथ लगाए। 

 

आपसी प्रेमभाव के मिटा रही है भाजपा

इस दौरान उन्‍होंने सूरदास, रसखान को याद किया। उन्‍होंने कहा दुनिया में मोहब्‍बत के नाम की दुनिया में किसी से पूछ लो तो आगरा का ही नाम लेता है। लेकिन यह भाजपा सरकार है जो सूरदास और रसखान की एक साथ रहने और बढ़ने वाली संस्‍कृति पर चोट करती है।

 

जुमलों से भाजपा ने लूट लिया था वोट

भाजपा पर तंज करते हुए कहा कि इस पार्टी के लोग हमारे गठबंधन वाले मेल  को महामिलावट कहते हैं। लेकिन आपके दल में कितने दलों का मेल है जरा इस  पर भी तो नजर डालें। साथ ही किसानों की बात करते हुए उन्‍होंने कहा कि दोगुनी आय करने वाले जुमले पर इन्‍होंने वोट को लूटा था अब यह वोट नहीं लुटने वाला है। 

नौजवान घूम रहा है बेरोजगार

मोदी पर निशाना साधते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि चाय वाला का नाम लेकर सबसे अधिक वोट ले गए। लेकिन किसानों की गायों के दूध को भूल गए। अगर दूध न हो तो चाय अच्‍छी नहीं बनती है। अब आप ही तय करो कि क्‍या चाय वाले चाहिए या किसानों और बेरोजगारों को रोजगार देने वालों को। हमारे लाखों नौजवानों के हाथ में रोजगार नहीं है।

मायावती के भतीजे आनंद ने भी संभाला मंच

इस दौरान बसपा की ओर से मायावती के चुनाव प्रचार पर रोक लगने के कारण उनके भतीजे आकाश आनंद, राष्ट्रीय महासचिव सतीश मिश्र ने रैली को संबोधित किया। उन्‍होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि गठबंधन से भाजपा भयभीत हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती के चुनाव प्रचार पर पाबंदी के पीछे भाजपा की साजिश है।

बिना मायावती के हो रही है जनसभा

कोठी मीना बाजार मैदान पर ही मायावती चुनाव रैलियां करती रही हैं, लेकिन यह जनसभा मायावती के बैगर ही हो रही है। क्योंकि चुनाव आयोग ने मायावती के प्रचार करने पर 48 घंटे तक पाबंदी लगाई है। वो मंगलवार सुबह छह बजे से दो दिन तक चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगी।

आगरा और फतेहपुर सीकरी में गठबंधन की नहीं हुई कोई बड़ी रैली 

आगरा और फतेहपुर सीकरी लोकसभा क्षेत्र में अभी तक गठबंधन की कोई बड़ी रैली नहीं हुई है। इसी रैली पर काफी कुछ दारोमदार बताया जा रहा है। बसपा ने आगरा सीट से जहां मनोज सोनी को प्रत्याशी बनाया है, वहीं फतेहपुर सीकरी सीट से गुड्डू पंडित चुनाव लड़ रहे हैं।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …