महराजगंज: डॉक्टर और चपरासी की आपसी लड़ाई से पशुओं की जान जोखिम में, लोगों में भारी आक्रोश

डीएन ब्यूरो

चपरासी और डॉक्टर के बीच की लड़ाई के कारण एक पशु चिकित्सालय में पशुओं का ठीक से इलाज नहीं हो पा रहा है। चपरासी द्वारा ही पशुओं का इलाज किया जा रहा है। डाइनामाइट न्यूज रिपोर्ट..

कोल्हुई पशु अस्पताल
कोल्हुई पशु अस्पताल

कोल्हुई (महराजगंज): कोल्हुई कस्बे में स्थित पशु अस्पताल पर डॉक्टर के बिना ही पशुओं का इलाज विगत कई दिनों से किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि डॉक्टर साहब कई दिनों से अस्पताल पर नहीं आते है। सिर्फ चपरासी के भरोसे ही पशुओं का इलाज किया जाता हैजिसकी वजह से पशुओं का सही तरीके से इलाज नहीं हो रहा है, जिस कारण पशुओं का जीवन भी खतरे में है। 

डॉक्टर की गैरमौजूदगी विभागीय उदासीनता को दर्शाता है। मामले में जब पशु अस्पताल पर तैनात डॉक्टर अभय सिंह से बात की गई तो वो टाल मटोल करते रहे। जबकि सूत्रों से पता चला है कि डॉक्टर और चपरासी के मध्य तालमेल होने के कारण डॉक्टर अस्पताल नहीं आते हैडॉक्टर ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को पत्र देकर अपनी पोस्टिंग दूसरी जगह करने के लिए अनुरोध किया है। प्रार्थना पत्र में चपरासी पर अनुशासनहीनता का आरोप लगाया गया है। 

इस संबंध में जब मुख्य पशु चिकित्साधिकारी अवध बिहारी से जानकारी ली गयी तो उन्होंने बताया कि डॉक्टर अभय सिंह ने प्रार्थना पत्र देकर किसी अन्य जगह पोस्टिंग करने की इच्छा जताई है। डॉक्टर और चपरासी के मध्य कुछ आपसी विवाद के चलते डॉक्टर अस्पताल पर नहीं जा रहे है। इस संबंध में विभाग को सूचित कर दिया गया है। जल्द है समस्या का निस्तारण कर लिया जाएगा।













संबंधित समाचार