कानपुर में जीएसटी का उग्र विरोध, व्यापारियों की नारेबाजी

डीएन संवाददाता

कानपुर के टिम्बर व्यापारियों ने आज डीएम को जीएसटी के खिलाफ ज्ञापन सौंपा। व्यापारियों ने मांग की कि जीएसटी के अलावा लगने वाले करों पर सरकार विचार करे।

डीएम आफिस को व्यापारियों ने सौंपा ज्ञापन
डीएम आफिस को व्यापारियों ने सौंपा ज्ञापन

कानपुर: जीएसटी को लागू हुए अभी 15 दिन भी नहीं बीते हैं और व्यापारियों में इसके लिए विरोध तेज होता जा रहा है। विरोध प्रदर्शन की कड़ी में गुरुवार को टिम्बर व्यापारियों ने एक आवाज में जीएसटी का बहिष्कार  किया और जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। व्यापारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्तमंत्री अरूण जेटली और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम डीएम को ज्ञापन सौंपा।

यह भी पढ़ें: फतेहपुर: खागा विभाजन मुद्दे को लेकर प्रतिनिधि मंडल ने डिप्टी सीएम से मुलाकात कर सौंपा ज्ञापन

यह भी पढ़ें: फतेहपुर: बिजली की समस्या से जूझते ग्रामीणों ने अधीक्षण अभियंता को दिया ज्ञापन

व्यापारियों का कहना है कि सरकार जीएसटी के नाम पर मंडी समिति व ट्रान्जिट शुल्क अलग से लेने का काम कर रही है, जिससे व्यापारियों को अलग मार पड़ रही है। जीएसटी के अलावा अलग से टैक्स लिये जाने के विरोध में टिम्बर उद्योग  व्यापार मंडल के प्रदेश महामंत्री सरदार गुरुजिंदर सिंह ने बताया की जीएसटी के अलावा 2.5 प्रतिशत मंडी समिति व 5 प्रतिशत ट्रान्जिट शुल्क भी अतिरिक्त वसूला जा रहा है।

यह भी पढ़ें: कानपुर में जीएसटी के विरोध में कपड़ा व्यापारी पहुंचे कैबिनेट मंत्री के कार्यालय

व्यापारियों का कहना है कि जीएसटी की वजह से व्यापार चौपट हो रहा है। पहले जहां सिर्फ 14 प्रतिशत टैक्स था अब जीएसटी लागू होने के बाद 18 प्रतिशत हो गया है और उसके ऊपर से यह दो टैक्स लिये जा रहे हैं जो की पूरी तरह से गलत है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार