रोहिंग्या मुसलमानों के मामले में सुप्रीम कोर्ट का दखल देने से इंकार

डीएन ब्यूरो

रोहिंग्या घुसपैठियों को उनके देश म्यांमार वापस भेजने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दखल देने से इंकार कर दिया है। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने वकील प्रशांत भूषण की याचिका को खारिज किया है। डाइनमाइट न्यूज़ की रिपोर्ट

रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दखल से इंकार (फाइल फोटो)
रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दखल से इंकार (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः रोहिंग्याओं को उनके देश म्यांमार वापस भेजने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दखल देने से मना कर दिया है। वकील प्रशांत भूषण की याचिका को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने खारिज करते हुए इन्हें म्यांमार का ही नागरिक पाया है। 

इससे अब असम में अवैध रूप से रह रहे सात रोहिंग्या घुसपैठियों को म्यांमार वापस भेजने का रास्ता साफ हो गया है। बता दें कि पिछले साल संसद में भारत सरकार ने बताया था कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग में पंजीकृत चौदह हजार से अधिक रोहिंग्या भारत में रह रहे हैं।   

यह भी पढ़ेंः CJI रंजन गोगोई आज सुप्रीम कोर्ट में इन मामलों की करेंगे सुनवाई, सुनाएंगे बड़ा फैसला

म्यांमार की सेना द्वारा पिछले साल दमन के बाद लाखों की तादाद में रोहिंग्या मुसलमान अपना घर और देश छोड़कर एशिया में भारत और बांग्लादेश में रह रहे हैं। यह माना जा रहा है कि अल्पसंख्यकों को भगाए जाने में यह रोहिंग्या मुसलमान विश्वभर में सबसे अधिक तादाद में है। 

म्यांमार में हिंसा कि वजह से रखाइन प्रांत से करीब 30 हजार बौद्ध और हिंदू भी विस्थापित हुए थे। भारत में रोहिंग्या मुसलमानों को देश में नहीं रहने देने की  सरकार ने अपनी नीति पर सुप्रीम कोर्ट में  हलफनामा देकर स्पष्टीकरण दिया था।   

यह भी पढ़ेंः जानिये, बागपत में 13 लोगों के हिंदू धर्म अपनाने की पूरी कहानी.. बिरादरी के लोगों से भी थे ख़फा

वहीं अब सुप्रीम कोर्ट के मामले में दखल देने से इनकार करने पर  गृह मंत्रालय के एक अधिकारी का कहना है कि वीरवार को सात रोहिंग्या घुसपैठियों को मणिपुर में मोरेह सीमा पोस्ट पर म्यांमार प्रशासन को सौंपा जाएगा। वहीं इन आव्रजकों की असल पहचान की भई कोशिश की जाएगी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार