Corona Virus Pandemic: महामारी बनकर फैला घातक कोरोना वायरस, दुनिया के लिए बना संकट

डीएन ब्यूरो

फिलीपीन में फंसे सैकड़ों भारतीय छात्र वीडियो संदेशों के जरिए मदद मांग रहे हैं क्योंकि वे कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए भारत द्वारा लागू की गई यात्रा पाबंदियों के कारण स्वदेश लौट नहीं पा रहे हैं। मेरिका में इन छात्रों के कुछ दोस्तों और रिश्तेदारों ने यह जानकारी दी।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

वाशिंगटन: फिलीपीन में फंसे सैकड़ों भारतीय छात्र वीडियो संदेशों के जरिए मदद मांग रहे हैं क्योंकि वे कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए भारत द्वारा लागू की गई यात्रा पाबंदियों के कारण स्वदेश लौट नहीं पा रहे हैं। मेरिका में इन छात्रों के कुछ दोस्तों और रिश्तेदारों ने यह जानकारी दी। भारत सरकार ने कोविड-19 के खतरे के खिलाफ अपने प्रयासों को तेज करने के बीच अफगानिस्तान, फिलीपीन और मलेशिया से यात्रियों के भारत में प्रवेश पर मंगलवार को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया। इनमें से एक छात्रा अखिल बाला नायर ने वीडियो संदेश में कहा कि करीब 200 भारतीय छात्रों ने अगले कुछ दिनों में भारत के लिए विमान की टिकटें बुक कराई थी लेकिन नयी नीति के कारण सभी टिकटें रद्द कर दी गईं।

यह भी पढ़ें: International कोरोना के मद्देनजर करतारपुर गुरुद्वारा यात्रा स्थगित

नायर ने जयपुर फुट यूएसए के प्रमुख प्रेम भंडारी को भेजे वीडियो संदेश में कहा कि ज्यादातर छात्रों ने 17 मार्च के लिए टिकट कराई थी और बाकियों को 19 तथा 20 मार्च को भारत की यात्रा करनी थी लेकिन टिकटों को रद्द कर दिया गया और मनीला में सैकड़ों भारतीय छात्र हवाईअड्डे पर फंसे हैं। भारतीय समुदाय के लिए काम कर चुके और इन छात्रों के संपर्क में रहने वाले भंडारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, यह वक्त की मांग है कि भारत सरकार इन भारतीय छात्रों को घर लाने के लिए एक विमान भेजे। इन छात्रों के अनुसार, इनमें से करीब 100 छात्र मंगलवार से हवाईअड्डे पर हैं। उन सभी के पास टिकट थी लेकिन हवाईअड्डा अधिकारी नए यात्रा नियमों के कारण उन्हें चेक-इन करने नहीं दे रहे।

यह भी पढ़ें: International कोरोना वायरस के प्रकोप से यूरोप ठप्प, ट्रंप ने लंबी लड़ाई के लिए किया आगाह

हवाईअड्डा अधिकारियों ने उन्हें अपने-अपने आवास पर वापस जाने के लिए कहा है लेकिन छात्रों ने कहा कि वे स्थानीय टैक्सी या यातायात की अन्य सेवाओं के न होने के कारण यात्रा नहीं कर पा रहे हैं। छात्रों ने बताया कि उनके पास कम वक्त बचा है क्योंकि फिलीपीन सरकार ने उन्हें देश से जाने के लिए 72 घंटे का समय दिया है जो 16 मार्च को शुरू होगा जिसके बाद देश में बंद जैसे हालात होंगे। नायर ने अपने संदेश में कहा इसका मतलब है कि हम 20 मार्च के बाद फिलीपीन के बाहर कहीं भी यात्रा नहीं कर पाएंगे।

छात्रों ने कहा कि उनमें से कई ने वीजा नवीनीकरण के लिए आवेदन किया है और वे भारत नहीं आना चाहते। उन्होंने बताया कि मनीला में करीब 1,000 भारतीय छात्र है जो स्वदेश लौटना चाहते हैं। इस बीच मनीला में भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया कि वे विदेश मंत्रालय के साथ मिलकर इसका हल निकालने की कोशिश कर रहे हैं। दूतावास ने कहा सभी से धैर्य रखने का अनुरोध किया जाता है। (भाषा)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार