चीन ने चेंगदू में अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास किया बंद, इमारत को कब्जे में लिया

डीएन ब्यूरो

चीन ने सोमवर को कहा कि अमेरिका के चेंगदू स्थित महावाणिज्य दूतावास परिसर के खाली होने के बाद उसने इमारत को अपना कब्जे में ले लिया है। पूरी खबर..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

चेंगदू: चीन ने सोमवर को कहा कि अमेरिका के चेंगदू स्थित महावाणिज्य दूतावास परिसर के खाली होने के बाद उसने इमारत को अपना कब्जे में ले लिया है। चीन ने ह्यूस्टन में चीनी महावाणिज्य दूतावास बंद करने के अमेरिका के आदेश के बाद, जवाबी कार्रवाई करते हुए उसे चेंगदू के अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास बंद करने आदेश दिया था।

चीन के विदेश मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, ‘‘27 जुलाई सुबह 10 बजे चेंगदू में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास बंद कर दिया गया।’’ उसने कहा, ‘‘ इसके बाद चीन के सक्षम अधिकारी मुख्य प्रेवशद्वार से इमारत में दाखिल हुए और परिसर को अपने कब्जे में ले लिया।’’

चेंगदू चीन के सिचुआन प्रांत की राजधानी है।

सरकारी प्रसारक ‘सीसीटीवी’ ने अपने सोशल मीडिया खाते पर बताया कि चेंगदू में अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास से सोमवार सुबह छह बजकर 18 मिनट पर अमेरिकी झंडा उतार दिया गया। पुलिस ने महावाणिज्य दूतावास के चारों ओर के इलाके में दो से तीन ब्लॉक बंद कर दिए हैं, जिसके कारण अब इस परिसर को देखा नहीं जा सकता। वाहनों को कई पुलिस लाइनों के पीछे कुछ दूरी से चलते देखा गया।

अमेरिका ने ह्यूस्टन में चीनी वाणिज्य दूतावास को बंद करने का आदेश दिया था और आरोप लगाया था कि ह्यूस्टन का महावाणिज्य दूतावास चीनी जासूसों का अड्डा बन गया है, जिन्होंने टेक्सास में कम्पनियों के डेटा चुराने की कोशिश की।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान में महावाणिज्य दूतावास के बंद होने पर निराशा जतायी और कहा कि दूतावास ‘‘ तिब्बत सहित पश्चिमी चीन के लोगों के साथ पिछले 35 साल से हमारे संबंधों का केन्द्र रहा है।’’

बयान में कहा, ‘‘ हम चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के फैसले से निराश हैं और चीन में अपने अन्य मिशन के जरिए इस महत्वपूर्ण क्षेत्र के लोगों तक पहुंचने की कोशिश जारी रखेंगे।’’

हांगकांग के ‘साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट’ ने एक खबर में बताया कि सुबह 11 बजे से पहले, कई कारें, एक सफेद एम्बुलेंस और दर्जनों चीनी कर्मचारियों को चेंगदू महावाणिज्य दूतावास के पास देखा गया। पुलिस ने वाणिज्य दूतावास के सामने सड़क और पैदल पथ बंद कर दिए हैं और वहां अवरोधक लगाये हैं।इस वाणिज्य दूतावास की शुरुआत 1985 में की गई थी। इसमें 200 कर्मचारी काम कर रहे थे, जिनमें से 150 स्थानीय थे।(भाषा)













संबंधित समाचार