यूपी के ब्यूरोक्रेसी की सबसे बड़ी खबर: अवनीश अवस्थी से सूचना विभाग हटा, नवनीत सहगल की मुख्य धारा में वापसी

मनोज टिबड़ेवाल आकाश

हाथरस कांड के बीच यूपी के दो धुरधंर आईएएस अफसरों के सितारे बदलते दिख रहे हैं। लगातार साढ़े तीन साल तक यूपी की नौकरशाही पर राज करने वाले अवनीश अवस्थी से सूचना विभाग वापस ले लिया गया है। इससे भी बड़ी बात यह है कि अंदरुनी तौर पर अवस्थी के सबसे बड़े विरोधी नवनीत सहगल की न सिर्फ साढ़े तीन साल बाद मुख्य धारा में वापसी हुई है बल्कि नवनीत को अवस्थी से वापस लिया गया सूचना विभाग दे दिया गया है। ब्यूरोक्रेसी के फेरबदल से जुड़ी पूरी खबर डाइनामाइट न्यूज़ पर

अवनीश अवस्थी और नवनीत सहगल
अवनीश अवस्थी और नवनीत सहगल

नई दिल्ली: एक तरफ देश भर में हाथरस कांड को लेकर यूपी सरकार चौतरफा घिरी है, वहीं दूसरी तरफ नौकरशाही के दो विपरित ध्रुव के सितारे अचानक बदल गये हैं।

अवनीश अवस्थी से अपर मुख्य सचिव सूचना का प्रभार ले लिया गया है, हालांकि गृह समेत अन्य शेष सभी विभाग अवस्थी के पास बने रहेंगे। साढ़े तीन साल से मुख्य धारा में वापसी की बाट जोह रहे नवनीत सहगल को ही अवस्थी से छीना गया सूचना विभाग दिया गया है, ये अपने आप में न सिर्फ चौंकाने वाली बल्कि आने वाले दिनों में ब्यूरोक्रेसी का क्या स्वरुप होगा, इसका एक बड़ा संकेत है।

इसके अलावा मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव संजय प्रसाद को सूचना विभाग के प्रमुख सचिव का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। वे नवनीत सहगल के अंडर में सूचना विभाग में नंबर दो की अहम भूमिका में रहेंगे।

इसके अलावा मनोज सिंह से समाज कल्याण वापस लेकर उन्हें प्रमुख सचिव उद्यान बनाया गया है।

बाबूलाल मीणा को प्रमुख सचिव समाज कल्याण बनाया गया है। सरोज कुमार को पूर्वांचल विद्युत वितरण विभाग का एमडी बनाया गया है। 








संबंधित समाचार