Bureaucracy: दो महिला IAS अफसरों की तनानती खुलकर आयी सामने, सरकार ने लिया ये एक्शन, जानिये पूरा मामला

डीएन ब्यूरो

देश में दो महिला आईएएस अफसरों का मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल, इनकी चर्चा किसी काम विशेष से नहीं बल्कि आपसी विवाद के कारण हो रही है। जानिये क्या है पूरा मामला

आसपी विवाद में उलझे रोहिणी सिंधूरी और शिल्पा नाग सी टी
आसपी विवाद में उलझे रोहिणी सिंधूरी और शिल्पा नाग सी टी


बेंगलुरु: देश में दो महिला आईएएस अफसरों का मामला सुर्खियों में बना हुआ है। ये दोनों महिला आईएएस अफसर किसी काम के कारण नहीं, बल्कि आपसी विवाद के कारण चर्चा में है। विवाद भी ऐसा कि सरकार को बीच में कूदना पड़ा और दोनों का ट्रांसफर करना पड़ा, तब जाकर इन दोनों के बीच का विवाद खत्म हुए।

मामला भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) की दो महिला अधिकारियों रोहिणी सिंधूरी और शिल्पा नाग सी टी से जुड़ी हुई है। इन दोनों पर अब कर्नाटक सराकर ने कार्रवाई की है। दोनों अफसरों के बीच पिछले कुछ दिनों से खुलेआम विवाद चल रहा था। जिसके बाद उनका मैसुरु से तबादला कर दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक रोहिणी सिंधूरी पहले मैसुरु जिले की उपायुक्त थीं। उन्हें अब ‘हिंदू रिलीजियस एंड चैरिटेबल एनडोमेंट्स’ में आयुक्त पद पर भेजा गया है। वह पहले भी इस पद पर तैनात रह चुकी थीं। सिंधूरी की जगह अब बागदी गौतम को मैसुरु जिले का उपायुक्त नियुक्त किया गया है। वे अब तक वाणिज्य कर (प्रवर्तन) की अतिरिक्त आयुक्त थीं। 

शनिवार को जारी आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार नाग मैसूर नगर निगम आयुक्त थीं। उन्हें आरडीपीआर विभाग में निदेशक (ई-गवर्नेंस) नियुक्त किया गया है। नाग की जगह लक्ष्मीकांत रेड्डी को नियुक्त किया गया है जो अब तक कर्नाटक खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंध निदेशक थे। नाग ने एक संवाददाता सम्मेलन में सिंधूरी पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए अपने इस्तीफे की घोषणा की थी। हालांकि, सिंधूरी ने इन आरोपों से इनकार किया और कहा कि उन्होंने नाग से सिर्फ कोविड-19 प्रबंधन से संबंधित जानकारी मांगी थी।

मुख्य सचिव पी रवि कुमार की मैसूर में समीक्षा बैठक के बाद दोनों महिला अधिकारियों के तबादले कर दिये गये। मुख्य सचिव ने दोनों अधिकारियों के बीच विवाद के संबंध में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को अवगत कराया था।










संबंधित समाचार