सांसद सावित्री बाई फुले ने सवर्ण आरक्षण पर सरकार के खिलाफ किया आर-पार की लड़ाई का ऐलान

डीएन ब्यूरो

कुछ समय पहले भाजपा से इस्तीफा देने वाली बहराइच से सांसद सावित्री बाई फुले ने सवर्ण आरक्षण को दलितों के आरक्षण खत्म करने की केंद्र सरकार की साजिश बताया है। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


लखनऊ: बागी तेवर अपनाकर भाजपा से इस्तीफा देने वाली बहराइच से भाजपा सांसद सावित्रीबाई फुले ने आज केंद्र सरकार के खिलाफ सवर्ण आरक्षण के मुद्दे पर आर पार की लड़ाई का ऐलान कर दिया है। केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए सावित्रीबाई फुले ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार लगातार संविधान प्रदत्त आरक्षण को समाप्त करने की साजिश रच रही है। सवर्ण आरक्षण विधेयक को संसद में सरकार ने पास कराया है। यह उसी की दिशा में एक कदम है।

यह भी पढ़ें: महराजगंज: जानिए, सवर्णों के 10% आरक्षण पर क्या बोली जनता 

सावित्रीबाई फुले ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि आने वाले समय में केंद्र सरकार आरक्षण का आधार शैक्षिक और सामाजिक पिछड़ेपन से हटाकर आर्थिक आधार पर कराना चाहती है।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का बड़ा फैसला.. गरीब सवर्णों के 10 प्रतिशत आरक्षण को दी मंजूरी 

सावित्रीबाई फुले ने प्रेसवार्ता करते हुए कहा कि जो भी गठबंधन मोदी सरकार के खिलाफ मजबूती से चुनाव लड़ेगा वे उसी को अपना समर्थन देंगी। हालांकि भाजपा से त्यागपत्र देने के बाद सांसद पद से इस्तीफा न देने के सवाल पर वे कुछ नहीं बोली कुल मिलाकर सावित्रीबाई फुले ने यह साफ कर दिया है कि आने वाले चुनाव में मोदी सरकार के खिलाफ जोरदार तरीके से विपक्षी गठबंधन का साथ देने वाली है।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)