आजमगढ़: व्यापारी की हत्या में वांछित बदमाश मुठभेड़ में घायल, पुलिस कर्मी को लगी गोली, दो फरार

डीएन संवाददाता

अहरौला बाज़ार में दिनदहाड़े व्यापारी की गोली मारकर हत्या करने समेत कई मामलों में वांछित बदमाश को पुलिस ने एक मुठभेड़ में घायल कर गिरफ्तार किया, उसके दो साथी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गये। डाइनामाइट न्यूज़ की स्पेशल रिपोर्ट


आजमगढ़: पुलिस ने गत दिनों अहरौला बाज़ार में दिनदहाड़े व्यापारी की हत्या में वांछित बदमाश को एक मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। जबकि उसके दो साथी पुलिस पर फायरिंग करने के बाद फरार होने में सफल रहे। इस मुठभेड़ में पांव में गोली लगने से बदमाश घायल हो गया। एक पुलिस कर्मी के हाथ में भी गोली लगी है। घायलों को इलाज के लिये अस्पताल में भर्ती कराया गया। घायल बदमाश के कब्जे से एक असलहा व कारतूस बरामद किया गया। मुठभेड़ में घायल बदमाश पर 50 हज़ार का इनाम रखा गया था।

यह भी पढ़ें: आजमगढ़: पुलिस ने 2.5 किलो गांजे के साथ दो तस्करों को किया गिरफ्तार

 

 

डीआईजी आजमगढ़ रेंज विजय भूषण ने बताया कि 11 अगस्त को अहरौला बाज़ार में दिन दहाड़े एक व्यापारी जितेन्द्र गुप्ता की मामूली बात को लेकर उसकी ही दुकान पर ताबड़तोड़ गोली मारकर हत्या की गयी थी। दुकानदार के सिर में चार गोलियां मारी गयी थी। इस मामले में पुलिस द्वारा बदमाशों को चिन्हित किया गया।

मामले में तीन बदमाश अकबर निवासी क़स्बा अतरौलिया, आकृति पांडेय उर्फ़ सचिन पाण्डेय निवासी अचलीपुर थाना अतरौलिया व सुजीत तिवारी निवासी दुराजपुर थाना अतरौलिया के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की गयी थी। बताया गया कि अकबर ने ही सिर में गोली मारी थी। जबकि अन्य दोनों मृतक को ललकार रहे थे। घटना के बाद से पुलिस बदमाशों की खोजबीन में जुटी थी। इसी क्रम में शनिवार को अहरौला कस्बा में तीनों वांछित बदमाशों के आने की सूचना मिली, जिसके बाद पुलिस ने वहां घेराबंदी कर दी।

यह भी पढ़ें: आजमगढ़: छात्र संघ चुनाव रद्द करने के खिलाफ शिब्ली नेशनल कॉलेज के छात्र नेताओं का प्रदर्शन 

बदमाशों के वहां पहुंचने पर पुलिस उन्हें दबोचने का प्रयास करने लगी, इसी बीच बदमाश पुलिस पर फायर करने लगे। पुलिस ने भी जबावी फायरिंग की, जिससे वांछित बदमाश अकबर के बायें पैर में गोली लगी, जबकि सचिन पाण्डेय व सुजीत तिवारी पुलिस पर फायर कर भागने में कामयाब रहे। इस मुठभेड़ में एक सिपाही दीनबंधु को भी गोली लगी। घायलों को अस्पताल में भर्ती किया गया है।

डीआईजी के अनुसार दो वर्ष पूर्व दुकान पर हुए एक विवाद के चलते बदमाशों ने इस हत्याकांड को अंजाम दिया। इस विवाद के दौरान बदमाशों ने राहुल यादव व विक्की सिंह उर्फ़ बृजेश सिंह को पब्लिक ने दौड़ा लिया था तथा उनकी बाइक को फूँक दिया गया था। तभी से बदमाश बदले की आग में जल रहे थे और हत्या की ताक में थे। राहुल यादव व बृजेश जेल में बंद हैं।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार