ट्रंप की दो टूक, पाकिस्‍तान वापस बुलाए अपने नागरिक नहीं तो वीजा पर लगेगा बैन

डीएन ब्यूरो

अमेरिका ने वीजा अवधि समाप्‍त होने के बाद भी रहने वाले पाकिस्‍तानों पर अब शिकंजा कसा है। ट्रंप ने स्‍पष्‍ट तौर पर कहा है कि पाकिस्‍तान अपने नागरिकों को जल्‍द से जल्‍द वापस बुलाए वरना अमेरिका पाकिस्‍तानियों के अमेरिका आने पर रोक लगा लगाएगा।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (फाइल फोटो)
अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (फाइल फोटो)

वाशिंगटन: पाकिस्‍तान की हालत पर चौतरफा मार पड़ रही है। आर्थिक रूप से खस्‍ताहाल पाकिस्‍तान को पहले विश्‍व के देशों से कर्ज नहीं मिल रहा था वहीं अब अमेरिका ने पाकिस्‍तान से अपने नागरिकों को वापस बुलाने का फरमान जारी कर दिया है। 

अमेरिका की यह चेतावनी पाकिस्‍तान के लिए बड़ा झटका मानी जा रही है। क्योंकि पाकिस्तान उन देशों में शामिल है, जिन पर अमेरिका का अवैध नागिरक संबंधी कानून लागू होता है। इसके अनुसार अमेरिका से प्रत्यर्पित किए गए और वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी रह रहे अपने नागरिकों को जो देश वापस नहीं लेंगे उनके नागरिकों को अमेरिकी वीजा नहीं दिया जाएगा।

अमेरिका ने वेनेजुएला की चार तेल कंपनियों और नौ जहाजों पर लगाई पाबंदी.. ये है वजह

नहीं मानी बात तो भूल जाओ अमेरिका का वीजा

वहीं पाकिस्‍तान इस मामले में शैतानी पर उतर आया है। उसने वीजा अवधि खत्म होने के बावजूद भी अमेरिका में रह रहे अपने नागरिकों को लेने से मना कर दिया था। जिसके बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने पाकिस्‍तान को खरे शब्‍दों में चेतावनी दी है कि यदि बात नहीं मानी गई तो पाकिस्‍तान का वीजा भूल जाओ।

अमेरिका ने ईरानी सेना को घोषित किया आतंकी संगठन, ईरान ने कहा- किसी भी कार्रवाई से निपटने को तैयार

सबसे पहले वरिष्‍ठ अधिकारियों का वीजा रोका जाएगा

इस संबंध में अमेरिका के विदेश विभाग ने कहा है, पाकिस्तान में दूतावास संबंधित कामकाज में अभी के लिए 'कोई बदलाव नहीं' है लेकिन अमेरिका पाकिस्तानी नागरिकों के वीजा रोक सकता है जिसकी शुरुआत उसके वरिष्ठ अधिकारियों से होगी।

अमेरिका: विदेश मंत्री ने डोनाल्ड ट्रम्प और किम जोंग उन के साथ हुई हनोई शिखर वार्ता के बारे में कही ये बात..

पाकिस्‍तान अमेरिकी अनुरोधों को करता रहा है नजरंदाज

वहीं अमेरिका में पाकिस्‍तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी का मानना है कि अगर पाकिस्तानी अधिकारियों ने प्रत्यर्पण की कानूनी अनिवार्यताओं के संबंध में अमेरिका के अनुरोधों को नजरअंदाज नहीं किया होता तो हालात यहां नहीं पहुंचते।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)










आपकी राय

Loading Poll …