यूपी सीएम की रेस में सबसे आगे हैं योगी आदित्यनाथ

मनोज टिबड़ेवाल आकाश

डाइनामाइट न्यूज़ इस बात का खुलासा कर रहा है कि महंथ योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं, जानिये कैसे...

योगी आदित्यनाथ
योगी आदित्यनाथ

नई दिल्ली: भाजपा की यूपी में सुनामी के बाद देश भर में एक ही सवाल सबकी जुबां पर है... आखिर कौन बनेगा यूपी का मुख्यमंत्री?

नई दिल्ली में भाजपा के उच्च पदस्थ सूत्रों के हवाले से डाइनामाइट न्यूज़ इस रहस्य पर से पर्दा उठा रहा है कि उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी कुर्सी के लिए गोरखपुर के सांसद और फायरब्रांड नेता महंथ योगी आदित्यनाथ सबसे आगे हैं।

रिजल्ट के दिन ही 11 मार्च को डाइनामाइट न्यूज़ ने यह खबर प्रकाशित कर दी थी कि योगी सीएम की रेस में सबसे आगे हैं

यह भी पढ़ें: पूर्वांचल में योगी का बजा डंका, सीएम की रेस में आदित्यनाथ सबसे आगे

यही नही जब डाइनामाइट न्यूज़ ने यूपी चुनाव परिणाम के बाद सर्वे किया कि... यूपी की जनता किसे सीएम के पद पर देखना चाहती है तो उसमें भी आदित्यनाथ 60.20% मतों के साथ पहली पसंद बनकर उभरे

डाइनामाइट न्यूज़ के सर्वे का नतीजा

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ का सर्वे.. जानिये.. जनता किसे देखना चाहती है यूपी के सीएम पद पर

औपचारिक तौर पर पर्यवेक्षक वेंकैया नायडू और भूपेन्द्र यादव 16 मार्च को विधायकों से बात कर अपनी रिपोर्ट अमित शाह को सौपेंगे और उसके बाद ऐलान कर दिया जाएगा।

योगी के अलावा नंबर दो पर मनोज सिन्हा, नंबर तीन पर केशव प्रसाद मौर्य का नाम भाजपा के पैनल में इस समय शीर्ष पर हैं लेकिन योगी के पक्ष में संघ प्रमुख मोहन भागवत के खुलकर आने के बाद उनके दावे को बेतहाशा मजबूती मिली है। 

डाइनामाइट न्यूज़ की पड़ताल में यह तथ्य सामने आया है कि चुनाव से ठीक पहले 2 अक्टूबर को भागवत गोरखपुर आय़े थे और गोरखनाथ मंदिर पहुंचकर बंद कमरे में योगी से गहन मंत्रणा की थी।

गोरखनाथ मंदिर में योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने पहुंचे मोहन भागवत

संघ के सर्वोच्च नेतृत्व की यह मीटिंग काफी गुप-चुप तरीके से हुई और इसी में यूपी चुनाव की दिशा तय कर दी गयी थी।

पक्की खबर डाइनामाइट न्यूज़ के पास यह भी है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मंगलवार की दोपहर संसद भवन में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य की मुलाक़ात हुई है। यह मीटिंग करीब 13 मिनट तक चली।

सूत्रों के मुताबिक राजनाथ सिंह, रामलाल, दिनेश शर्मा, शिव प्रताप शुक्ला, सिद्दार्थ नाथ सिंह, महेश शर्मा और श्रीकांत शर्मा अब काफी पिछड़ चुके हैं और बहुत ज्यादा उलटफेर नही हुआ तो योगी का सीएम बनना तय है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार