महराजगंज के एसपी का तबादला.. जिले की सबसे बड़ी खबर डाइनामाइट न्यूज़ पर

डीएन संवाददाता

महराजगंज के पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह का तबादला कर दिया गया है। उन्हें नये जिले की कमान दी गयी है। महराजगंज में एक तेज-तर्रार युवा आईपीएस की नियुक्ति की गयी है। जिले की सबसे बड़ी खबर आप सबसे पहले डाइनामाइट न्यूज़ पर पढ़ रहे हैं।

आरपी सिंह
आरपी सिंह

महराजगंज: पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह का तबादला कर दिया गया है। उन्हें गोंडा जिले की कमान दी गयी है।

यह भी पढ़ें: यूपी में 29 आईपीएस और 14 पीपीएस के तबादले, शलभ माथुर की बुरी दुर्गति, गोरखपुर-महराजगंज सहित 14 जिलों में नये कप्तान

2013 बैच के तेज-तर्रार युवा आईपीएस रोहित सिंह सजवान की महराजगंज में बतौर एसपी नियुक्ति की गयी है। जिले की सबसे बड़ी खबर आप सबसे पहले डाइनामाइट न्यूज़ पर पढ़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: बीस पीपीएस अफसरों की ड्यूटी लगाई गई कुंभ मेले में, पूरी लिस्ट डाइनामाइट न्यूज़ पर..

राकेश के काम-काज पर एक नज़र 

महराजगंज में राकेश प्रताप सिंह ने शानदार पारी खेली। यह उनका पहला जिला था लेकिन बावजूद इसके उन्होंने अपनी कर्मठता से सबको साथ लेकर चलने में भरोसा जताया और जिले के निहाज से वे एक सफल कप्तान रहे। मार्च 2017 में योगी सरकार आने के बाद उनको जिले की कमान दी गयी थी। करीब ड़ेढ़ साल के महराजगंज के कार्यकाल में वे उपनी लो-प्रोफाइल छवि के कारण काफी हद तक सफल रहे। यही कारण है कि सीएम ने उन पर भरोसा जताया और गोंडा जैसे बड़े जिले की कमान दी लेकिन राकेश के लिए गोंडा महराजगंज जितना आसान नही रहने वाला। जानकारों ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि वहां इनको सबसे पहले अपनी ही जाति के दो कद्दावर भाजपाई रसूखदारों सांसदद्वय बृजभषण शरण सिंह और कीर्तीवर्धन सिंह के साथ भयंकर सामंजस्य बनाना होगा। तभी वहां ये सफल हो पायेगें।

रोहित सिंह सजवान

कौन हैं रोहित सिंह सजवान

डाइनामाइट न्यूज़ को मिली जानकारी के मुताबिक रोहित उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल के रहने वाले हैं। ये तेज-तर्रार युवा आईपीएस हैं। इनका बैच 2013 का है। बीते सात महीने से ये एसपी सिटी (उत्तरी), गोरखपुर के पद पर तैनात थे। 31 वर्षीय रोहित के पिता एक प्राथमिक विद्यालय में टीचर हैं और मां हाउस वाइफ हैं। ये परिवार में सबसे बडे़ बेटे हैं इनसे छोटे दो भाई और हैं। जिनमें एक नोएडा में प्राइवेट नौकरी करता है और दूसरा काम्पटीशन की तैयारी कर रहा है। इनके बारे में मिली जानकारी के मुताबिक इनकी पोस्टिंग स्वयं सीएम ने की है। सीएम को लगातार महराजगंज में कई गड़बड़ियों की शिकायतें मिल रही थी खासतौर पर उनके पुराने संसदीय क्षेत्र के हिस्से श्यामदेउरवा, घुघुली के इलाके से और साथ ही चौक थाना क्षेत्र से भी। महराजगंज में काफी लंबे समय बाद डायरेक्ट आईपीएस की तैनाती की गयी है जो जिले के नेताओं के लिए चुनावी सीजन में भारी पड़ने वाला है। रोहित की छवि नेताओं के बेवजह के फर्जी दबावों को न मानने वाले अफसर की है। इनके कई बैचमेचों ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि इन्हें दबाव मुक्त होकर काम करना ज्यादा पसंद है। मतलब यह कि ट्रांसफर-पोस्टिंग में दलालों की तो बैंड बजनी तय है। देखना है पहली बार जिला पाये रोहित महराजगंज में सीएम की अपेक्षाओं पर कितना खरा उतरते हैं?

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार