ब्यूरोक्रेट्स पर भड़के राजभर, बोले- हाथों में फावड़ा लेकर जर्जर सड़क को मैने खुद ठीक किया

डीएन संवाददाता

योगी सरकार के पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने डाइनामाइट न्यूज़ से एक खास बातचीत में यूपी के नौकरशाहों पर हमला बोलते हुए कहा कि राज्य के ब्यूरोक्रेट्स बेलगाम हो चुके हैं लेकिन अब इनको सुधारने का काम भी शुरू हो चुका है। स्पेशल इंटरव्यू..


लखनऊ: यूपी के पिछड़ा वर्ग कल्याण कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने डाइनामाइट न्यूज़ से एक खास बातचीत में कहा कि राज्य की ब्यूरोक्रेसी बेलगाम हो चुकी है लेकिन अब हमने उसे ठीक करने का भी काम शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि बेलगाम अधिकारियों की लापरवाही के कारण फिछले दिनों उन्हें खुद फावड़ा उठाकर जर्जर सड़क को ठीक करना पड़ा था। 

यह भी पढ़ें: गरीब, कमजोर और दलितों के हित में आवाज उठाता रहूंगा- ओमप्रकाश राजभर 

राजभर ने डाइनामाइट न्यूज़ से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि वह 2019 क्या 2024 में भी भाजपा के साथ ही रहकर काम करेंगे। राजभर ने यह साफ कर दिया कि आने वाले समय में उनका भाजपा से अलग होकर राजनीति करने का फिलहाल कोई इरादा नहीं है। 

डाइनामाइट न्यूज़ से बातचीत करते ओम प्रकाश राजभर

 

इससे उन चर्चाओं पर विराम लग गया जिनमें अटकलें जताई जा रही थी कि राजभर 2019 के आम चुनाव में अपनी राहें भाजपा से अलग कर चुनाव लड़ सकते हैं।

राजभर ने राज्य की ब्यूरोक्रेसी पर सवाल उठाते हुए कहा कि ब्यूरोक्रेट्स बेलगाम हो गये है। इस बात का एक उदाहरण देते हुए राजभर ने कहा कि पिछले दिनों बेटे की शादी के दौरान उनके घर कई बड़े वीवीआईपी मेहमानों को आना था। लेकिन उनके घर के पास बनी सड़क जर्जर हो चुकी थी, जिसको ठीक करने के लिए उन्होंने अधिकारियों से कई बार मिलकर बात की लेकिन इसके बावजूद भी सड़क ठीक नहीं की गयी। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की लापरवाही को देखते हुए उन्हें बाद में खुद ही फावड़ा हाथ में उठाया और जर्जर सड़क को ठीक किया।

राज्य के किसानों को उनकी उपज का उचित दाम मिलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज का ठीक दाम मिल सके इसके लिए सरकार की ओर से कोशिशें जारी हैं। हालांकि उन्होंने यह भी माना कि किसानों से खरीद के बाद फसलों के उचित भंडारण की व्यवस्था अभी ठीक ढंग से नहीं हो पाई है।

2019 का लोकसभा चुनाव भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि एक परिवार में अक्सर खटपट हो जाता है। मगर इसका मतलब यह नहीं है कि परिवार टूट कर बिखर जाए।


 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार