UP Panchayat Election: उन्नाव रेप कांड के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी को भाजपा से टिकट

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव के लिये भारतीय जनता पार्टी ने उम्मीदवारों की एक सूची जारी की है। इस सूची में भाजपा ने उन्नाव रेप कांड के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी को भी पार्टी उम्मीदवार घोषित किया है। पढिये डाइनामाइट न्यूज की पूरी रिपोर्ट

रेप केस में सजायाफ्ता कुलदीप सिंह सेंगर
रेप केस में सजायाफ्ता कुलदीप सिंह सेंगर


लखनऊ: उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव के लिये भारतीय जनता पार्टी ने जिला पंचायत सदस्य के 51 पदों के लिए पार्टी प्रत्याशियों की नई सूची जारी की है। उन्नाव के लिये जारी इस सूची में बीजेपी ने रेप केस में दोषी और सजायाफ्ता कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर को भी ज़िला पंचायत चुनाव का टिकट दिया है। कुलदीप सेंगर उन्नाव से बीजेपी से विधायक थे, लेकिन वह चिर्चित उन्नाव रेप केस में दोषी पाये गये और उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। 

यह भी पढ़ें: UP Panchayat Polls त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव से पहले फतेहपुर में 500 से ज्यादा अपराधियों के खिलाफ गुंडा एक्ट 

रेप केस में सजा काट रहे कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर भाजपा द्वारा पंचायत चुनाव में टिकट दिये जाने का मामला जोर पकड़ता जा रहा है। बता दें कि संगीता सेंगर 2016 में निर्दलीय जिला पंचायत अध्यक्ष बनी थीं। संगीता के अलावा बीजेपी ने निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख अरुण सिंह को असोहा द्वितीय से और बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य आनन्द अवस्थी को सरोसी प्रथम से मैदान में उतारा गया है।

यह भी पढ़ें: देखिये VIDEO: यूपी में चुनाव से पहले पंचायत कार्यालय में कैसे उड़ रही है कोरोना नियमों की धज्जियां 

संगीता सेंगर को बीजेपी ने फतेहपुर चौरासी तृतीय क्षेत्र से जिला पंचायत सदस्य का प्रत्याशी बनाया है। नवाबगंज के निवर्तमान ब्लाक प्रमुख अरुण ङ्क्षसह औरास द्वितीय से भाजपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में होंगे।

उल्लेखनीय है कि कुलदीप सिंह सेंगर बांगरमऊ से बीजेपी के टिकट पर चार बार विधायक रह चुके हैं। साल 2017 में उन्नाव के चर्चित रेप केस में कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद उन्हें बीजेपी ने अगस्त 2019 में पार्टी से निकाल दिया था और इसके बाद उनकी विधानसभा की सदस्यता भी समाप्त कर दी गई थी। पिछले साल कोर्ट ने कुलदीप सिंह सेंगर को रेप और अपहरण के मामले में दोषी करार देते हुए उन्हें उम्र क़ैद की सज़ा सुनाई थी।
 










संबंधित समाचार