कैराना के रसूलपुर मतदान केंद्र पर भीड़ का धावा, फर्जी वोटिंग की कोशिश, बीएसएफ ने की फायरिंग

डीएन ब्यूरो

कैराना के रसूलपुर गुजरान के मतदान केंद्र पर सैकड़ों की भीड़ ने धावा बोल दिया। इस दौरान लोगों ने फर्जी मतदान कराने की कोशिश की। जिसे रोकने के लिए बीएसएफ ने फायरिंग की।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

कैराना: कैराना के रसूलपुर गुजरान में फर्जी वोटिंग कराने पहुंची भीड़ को खदेड़ने के लिए बीएसएफ ने हवाई फायरिंग की। जिसके बाद सैकड़ों की तादाद में पहुंची भीड़ तितर बितर हो गई। फिलहार मतदान रोक दिया गया है। 

रसूलपुर गांव में मतदान पर तैनात कर्मचारियों पर सपा के पक्ष में मतदान करने का आरोप में ग्रामीणों जमकर हंगामा किया। प्राप्‍त जानकारी के अनुसार सैकड़ों की भीड़ ने मतदान स्‍थल पर धावा बोल दिया था। ग्रामणों ने हंगामा करते हुए पथराव शुरू कर दिया। जिसके बाद स्थिति बिगड़ने पर बीएसएफ के जवानों ने हवा में कई राउंड फायरिंग की है। फिलहाल मतदान को रोक दिया गया है। 

ग्रामीणों ने किया मतदान का बहिष्‍कार 

पथराव और फायरिंग की सूचना मिलते ही एमएलसी वीरेंद्र सिंह मौके पर पहुंच गए। इस दौरान ग्रामीणों ने भाजपा के पक्ष में नारेबाजी भी की है। इस बीच डीएम और एसपी भी मौके पर पहुंच गए हैं। सूत्रों से प्राप्‍त जानकारी के अनुसार नाराज ग्रीमीणों ने चुनाव का बहिष्कार कर दिया है।

त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना

इस लोकसभा सीट से सपा की तरफ से वर्तमान सांसद तबस्सुम बेग़म एक बार फिर से चुनावी मैदान में हैं। जबकि कांग्रेस ने हरेंद्र मलिक को प्रत्याशी बनाया है। वहीं बीजेपी ने पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह की जगह प्रदीप चौधरी को टिकट दिया है।

तीन अलग-अलग दलों के टिकट पर चुनाव लड़ चुकी हैं तबस्सुम

इस क्षेत्र में कुल 16.48 लाख वोटर हैं जिनमें सबसे ज्यादा 5.50 लाख मुस्लिम हैं। मौजूदा सांसद तबस्सुम हसन 2009 से अब तक तीन अलग-अलग दलों के टिकट पर चुनाव लड़ चुकी हैं। तबस्सुम ने 2009 लोकसभा चुनाव बीएसपी टिकट पर लड़ा था और बीजेपी के हुकुम सिंह को हराया था। 2014 में तबस्सुम की जगह बेटे नाहिद हसन को सपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़वाया गया था और उस दौरान बीजेपी के हुकुम सिंह से हारे थे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार