डॉक्टर्स का जल्लाद जैसा बर्ताव: पुलिस से झड़प, होम गार्ड का तोड़ा हाथ

डीएन संवाददाता

कानपुर में मेडिकल कालेज में डॉक्टर्स और तीमारदारों के बीच झड़प हो गयी। झगड़े के बाद पहुंची पुलिस पर डॉक्टरों ने हमला बोल दिया, जिससे पुलिस को वहां से भागना पड़ा। डॉक्टरों ने पुलिस थाने पर भी हमला बोला और थाना परिसर में जमकर तोड़फोड़ की।

कोतवाली स्वरूप नगर
कोतवाली स्वरूप नगर

कानपुर: मेडिकल कालेज के डॉक्टरों का जल्लादों जैसा व्यवहार एक बार फिर देखने को मिला। तीमारदारों और डॉक्टरों के बीच झगड़े की सूचना पर पहुंची पुलिस को डॉक्टरों का हमला झेलना पड़ा, जिससे पुलिस को वहां से भागना पड़ा। डॉक्टर्स ने पुलिस थाने पर भी हमला बोल दिया। क्रिकेट स्टंप से लैस डाक्टरों ने थाना परिसर में जमकर तोड़फोड़ की और जब पहरे पर मौजूद होमगार्ड ने डॉक्टरों को रोकने का प्रयास किया तो उन पर डॉक्टरों ने स्टंप से हमला कर दिया, जिससे एक होमगार्ड का हाथ टूट गया। फिलहाल पुलिस पर हमला करने पर दो डॉक्टरों को हिरासत में लिया गया है।

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी डाक्टर्स

डॉक्टर्स और तीमारदारों के बीच झड़प

सोमवार तड़के ढाई बजे मेडिकल कालेज के ब्लड बैंक में तीमारदार मरीज़ के लिए ब्लड लेने पहुंचे ही थे कि शराब के नशे में धुत डॉक्टर्स और तीमारदारों के बीच झड़प हो गयी। जिसके बाद तीमारदारों ने 100 नंबर पर सूचना कर दी। सूचना पर पहुंची पीआरवी वैन पर भी डॉक्टर्स ने हमला बोल दिया।

डॉक्टरों ने थाने में की तोड़फोड़

करीब 40 से 50 डॉक्टर्स दबाव बनाने के लिए एकजुट होकर स्वरूप नगर थाने पहुंचे, जहां मौजूद होम गार्ड शिवदास गौतम ने उन्हें रोका तो डॉक्टर्स ने स्टंप्स निकालकर शिवदास को बुरी तरह पीट दिया। इस दौरान शिवदास का बांया हाथ टूट गया। पीड़ित होमगार्ड शिवदास ने बताया कि डॉक्टर्स ने सारी हदें पार कर दी थीं जल्लादों जैसा व्यवहार हमारे साथ कर रहे थे। अगर वह वहां थोड़ी देर और रुक जाता तो शायद ये उसकी जान ही ले लेते। वहीं नशे में धुत डॉक्टर्स यहीं नहीं रुके, इन्होंने थाने में मौजूद मुंशी राज किशोर और ऑपरेटर सत्येंद्र पर भी हमला बोला और थाने पर तोडफोड़ कर दी। 

घायल होम गार्ड 

पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

सूचना पर स्वरूप नगर पुलिस ने ब्लड बैंक के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर और एमबीबीएस के सेकंड ईयर के छात्र को मौके से गिरफ्तार कर लिया लोकिन उनके बाकी साथी फ़रार हो गए। फरार चल रहे साथी डॉक्टर्स प्रशांत चौधरी, रजनीश यादव और अनुभव त्रिपाठी के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया है। जबकि 25 अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 323, 504, 506, 7 सीएलए और 307 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

थाना परिसर में तोड़फोड़ के बाद का दृश्य

दोषियों को मिलेगी सख्त सजा- डीआईजी

डीआईजी सोनिया सिंह ने बताया कि जो भी दोषी डॉक्टर होगा बख्शा नहीं जाएगा। बाकी फरार लोगों की तलाश की जा रही है। इनके ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

दोषी डाक्टर्स को धोना पड़ सकता है नौकरी से हाथ

इस मामले में मेडिकल कालेज के प्रोफेसर नवनीत कुमार ने बताया कि दो डॉक्टर्स का पैनल बनाकर टीम गठित की गई है, जो जांच कर उसकी रिपोर्ट सौपेंगे। जो भी डॉक्टर दोषी पाया जाएगा उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …