वेनेजुएल: ‘सुप्रीम ट्रिब्यूनल ऑफ जस्टिस’ ने जुआन गुआइदो के देश छोड़ने पर लगाया प्रतिबंध

डीएन ब्यूरो

वेनेजुएला के शीर्ष न्यायालय ‘सुप्रीम ट्रिब्यूनल ऑफ जस्टिस’ ने खुद को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित करने वाले विपक्षी नेता जुआन गुआइदो के देश छोड़कर जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है और जांच पूरी होने तक उनके बैंक खातों को ब्लॉक करने का आदेश दिया है।

जुआन गुआइदो
जुआन गुआइदो

ब्यूनस आयर्स: वेनेजुएला के शीर्ष न्यायालय ‘सुप्रीम ट्रिब्यूनल ऑफ जस्टिस’ ने खुद को देश का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित करने वाले विपक्षी नेता जुआन गुआइदो के देश छोड़कर जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है और जांच पूरी होने तक उनके बैंक खातों को ब्लॉक करने का आदेश दिया है।

अदालत के प्रमुख माइकल मोरेनो ने ट्विटर पर कहा, “शीर्ष अदालत ने 29 जनवरी को अपने फैसले में जुआन गुआइदो के खिलाफ कई कदम उठाये जाने का आदेश दिया जिनमें जांच पूरी होने तक अनुमति-पत्र के बिना गुआइदो के देश छोड़ने पर रोक, उनके द्वारा संपत्ति की बिक्री और गिरवी रखने पर रोक, बैंक खाताें या वेनेजुएला से संबंधित उसके अन्य वित्तीय दस्तावेजों को ब्लॉक करना शामिल है। ”सप्ताह की शुरुआत में, वेनेजुएला के महाभियोजक जनरल तारेक साब ने सुप्रीम ट्रिब्यूनल ऑफ जस्टिस से नेशनल असेंबली के अध्यक्ष गुआइदो के खिलाफ इस तरह के कदम उठाये जाने का आदेश देने का अनुरोध किया था।

व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने घोषणा की थी कि अमेरिका वेनेजुएला की तेल कंपनी पीडीवीएसए पर प्रतिबंध लगा रहा है जिसके बाद शीर्ष अदालत से यह अनुरोध किया गया था। अमेरिकी वित्त मंत्री स्टीवन म्नुचिन ने कहा कि अगर गुआइदो को शीघ्रता से सत्ता का हस्तांतरण किया जाये तो पीडीवीएसए को अमेरिकी प्रतिबंधों से राहत दी जा सकती है

वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकाेलस मादुरो ने सोमवार को अमेरिका पर अमेरिका-स्थित पीडीवीएसए की सहायक कंपनी ‘सिटगाे’ की चाेरी की कोशिश करने का अरोप लगाया था और पीडीवीएसए के खिलाफ लगाये गये अमेरिकी प्रतिबंधों को गैरकानूनी करार दिया था।राष्ट्रपति के अनुसार वेनेजुएला अपनी संपत्ति की सुरक्षा के लिए अमेरिकी अदालतों में मुकदमा दायर करने समेत विभिन्न कदम उठाएगा। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या कश्मीर में हुआ आतंकी हमला मोदी सरकार की नाकामी है?