यूपी में रेलवे डाक सेवा का हाल.. काउंटर पर सर्वर 'रामभरोसे'

डीएन संवाददाता

रेलवे डाक सेवा को बेहतर बनाने के लिये जहां केंद्र सरकार इसे पूरे तरीके से आधुनिक तकनीक से जोड़ रही है वहीं देवरिया में जिला मुख्यालय में आलम यह है कि यहां 11 नवंबर से सर्वर पूरी तरह से ठप पड़ा है। कर्मचारियों के पास इसका कोई सार्थक जवाब भी नहीं है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें पूरा मामला..

सर्वर ठप होने से सुनसान पड़ा जिला मुख्यालय
सर्वर ठप होने से सुनसान पड़ा जिला मुख्यालय

देवरियाः आम लोगों को अपनी डाक देर शाम को ही भेजने की सुविधा प्रदान करने के लिये आरएमएस की व्यवस्था भारत सरकार द्वारा की गई है। देवरिया रेलवे स्टेशन पर भी यह सुविधा उपलब्ध है,लेकिन रेलवे डाक सेवा (आरएमएस) कार्यालय में रजिस्ट्री,स्पीड पोस्ट आदि स्वीकार करने वाले कर्मचारियों के साथ उन पर नजर रखने वाले स्थानीय जिम्मेदार अफसर भी अपने कार्यों के प्रति बेहद उदासीन हैं। आरएमएस देवरिया 11 नवम्बर से रजिस्ट्री,स्पीड पोस्ट स्वीकार नहीं कर रहा है, काउन्टर पर सर्वर खराब होने की सूचना एक कागज पर हाथ से लिखकर प्रदर्शित कर अपने दायित्वों की इतिश्री कर ली गयी है।   

 

डाक सेवा ठप होने से काम प्रभावित

 

यह प्रतिनिधि 20 किलोमीटर दूर से आवश्यक डाक स्पीड पोस्ट करने आरएमएस देवरिया पहुंचा तो, काउंटर पर सर्वर खराब का बोर्ड दिखा।काफी पूछताछ करने पर एक आनिस पटेल नामक एसए शर्टिंग असिस्टेंट प्रकट हुआ कि सर्वर खराब है,कब से खराब है कि गहराई से पूछताछ करने,व मीडियाकर्मी बताने पर बताया गया कि 11 नवम्बर से कार्य बाधित है, जिसकी सूचना व्हाट्सएप से दी जा चुकी है। काफी प्रयास करने के बाद उप अभिलेख कार्यालय प्रभारी प्रभाकर चतुर्वेदी कानम्बर मिले, जिन्होंने बताया कि संबंधित को सूचित किया जा चुका है, इसे ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है।    

लोगों को पेश आ रही खासी परेशानी

 

सूत्रों से पता चला कि यूजर आईडी लॉक हो जाने के कारण सेवा बन्द है। आरएमएस कर्मी अपने ऊपर के अफसरों कानम्बर भी जानकारी न होना बताते है। सिस्टम मैनेजर दीपक प्रजापति से इस बाबत मीडिया का हवाला देकर पूछा गया तो उन्होंने मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया,पुनः आईआरएम जय चंद मौर्य से पूछने पर पता चला कि उन्हें इस संबंध में कोई सूचना नहीं है। पुनः सुपरिटेंडेंट रेलवे मेल से फोन द्वारा बात करने पर बताया गया कि इस संबंध में मुझे कोई जानकारी नहीं है। 

11 नवम्बर से ठप आरएमएस सेवा की जानकारी 17 तक न होना सम्बंधित लोगों की कार्य प्रणाली को दर्शाता है।कर्मचारियों द्वारा बताया गया कि औसतन 100 से 200 डाक रोज इस काउंटर पर प्राप्त होती है। जिले के कोने- कोने से लोग यह आते हैं, उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार