‘चप्पल चोर पाकिस्तान’ की अमेरिका में भी शुरू हुई ‘थू-थू’

डीएन ब्यूरो

पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव से मुलाकात के दौरान उनके परिवार के साथ किए गए अमानवीय व्यवहार की अब अमेरिका में भी निंदा शुरू हो गई है। वाशिंगटन डीसी में अमेरिकी जनता समेत भारतीय व बलूचिस्तान के लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली और पाकिस्तान को "चप्पल चोर" कहा।

अमेरिका में पाकिस्तान को चप्पल चोर बताकर प्रर्दशन करते लोग
अमेरिका में पाकिस्तान को चप्पल चोर बताकर प्रर्दशन करते लोग

नई दिल्लीः पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव से मुलाकात के दौरान उनके परिवार के साथ किए गए अमानवीय व्यवहार की अब अमेरिका में भी निंदा शुरू हो गई है। वाशिंगटन डीसी में अमेरिकी जनता समेत भारतीय व बलूचिस्तान के लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली और पाकिस्तान को "चप्पल चोर" कहा।

लोगों ने इस मामले में पाकिस्तान के दूतावास के बाहर पुराने चप्पल और जूते दान में देकर पाकिस्तान में जाधव परिवार के साथ हुए दुर्व्यवहार के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन किया और उसके व्यवहार की निंदा की।

खबरों के मुताबिक वाशिंगटन डीसी में पाकिस्तान के दूतावास के बाहर प्रदर्शन कर रहे लोगों ने इस प्रदर्शन को जाधव परिवार के प्रति सहानुभूति बताया है। लोगों ने कहा कि पाकिस्तान ने जाधव की पत्नी और मां के साथ जो व्यवहार किया, वह न केवल गलत है बल्कि इससे पाकिस्तान की घटिया सोच भी उजागर होती है। 

प्रदर्शन के दौरान लोगों ने हाथों में तख्तियां ले रखी थी, जिसमें पाकिस्तान को ‘चप्पल चोर’ बताया गया। लोग पाकिस्तान के खिलाफ नारेबाजी भी कर रहे थे जबकि सोशल साइट्स पर भी #ChappalChorPakistan का हैशटैग चलाया जा रहा है। 

चुराए गए चप्पल का उपयोग कर रहा होगा पाकिस्तान 

प्रदर्शन में शामिल एक व्यक्ति ने कहा कि जाधव की पत्नी काफी दुखी थी और मुमकिन है कि चुराए गए चप्पल का वे उपयोग भी कर रहे हों। मैं कहना चाहता हूं कि पाकिस्तान का मतलब क्या, अमेरिका से डॉलर ला, हिंदुस्तान के जूते खा। इस दौरान प्रदर्शनकारियों के हाथ में जाधव और उनके परिवार के साथ मुलाकात की तस्वीर भी थी। इस मामले को लेकर अमेरिका में भी काफी गुस्सा देखा जा रहा है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








आपकी राय

क्या जम्मू-कश्मीर में पीडीपी से समर्थन वापसी भाजपा का लोक सभा चुनाव-2019 के लिये एक राजनीतिक स्टंट है?