बलरामपुर: राप्ती का जलस्तर बढ़ने से एक दर्जन गांवें पर खतरा, ग्रामीणों में दहशत

डीएन संवाददाता

राप्ती नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से वहां के स्थानीय लोग काफी डरे हुए हैं। लगातार बढ़ते जलस्तर को देखकर बांध की रोकथाम के लिए शासन-प्रशासन द्वारा बोल्डर व बांस बल्ली के सहारे बांध के कटान को रोकने का प्रयास किया जा है।

राप्ती नदी के बढ़े जलस्तर का दृश्य
राप्ती नदी के बढ़े जलस्तर का दृश्य

बलरामपुर: यूपी के बलरामपुर में राप्ती नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है, जिससे वहां के लोग काफी परेशान नजर आ रहे हैं। स्थानीय लोगों को इस बात का डर सताने लगा है कि न जाने कब नदी का बांध टूट जाये और उनकी जीवन खतरे में पड़ जाये। बढ़ते जलस्तर से बांध का कटान जारी है, जिस कारण लगभग एक दर्जन गांवों का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है।

ग्राम कटरा के निकट बने बांध को भी नदी के बढ़ते जलस्तर ने अपने आगोश में ले लिया है। तहसील उतरौला के अंतर्गत स्थित राप्ती नदी के बढ़ते जलस्तर से बांध का कटान जारी है। जिसके कारण एक तरफ जहाँ तटवर्ती गांवों का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है, वहीं बांधों के रखरखाव को लेकर स्थानीय प्रशासन की भी पोल खुल गई है।  

नदी के लगातार बढ़ते जलस्तर को देखकर बांध की रोकथाम के लिए शासन प्रशासन द्वारा बोल्डर व बांस बल्ली के सहारे बांध के कटान को रोकने का प्रयास किया जा है। बांध को कटने से रोकने के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा पहले से कोई ठोस उपाय न किये जाने को लेकर ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।

अगर नदी का बांध टूटता है, तो राप्ती तटीय ग्राम बभनपुरवा, अल्लीपुर खुर्द, फत्तेपुर, रुस्तमनगर, पिपरा एकडंगा, बघाजोत, मटयरिया, महुआधनी, परसौना, नन्दौरी, बाँक मलमलिया, चिचूढी सहंगिया जैसे कई गांवों को अपने चपेट में ले लेगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार