बलरामपुर: महाराणा प्रताप जयंती पर दिखी थारू जनजाति की बेटियों की जाबांजी

डीएन ब्यूरो

इंडो-नेपाल सीमा पर जंगलों के बीच बसे ग्राम इमलिया कोडर को पिछड़ा क्षेत्र माना जाता है, यहां लगभग दो हजार थारू जनजाति को लोग निवास करते हैं। महाराणा प्रताप जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में यहां की लड़कियों ने शानदार कार्यक्रम पेश कर सभी को अचम्भे में डाल दिया।

शानदार कार्यक्रम
शानदार कार्यक्रम

बलरामपुर:  महाराणा प्रताप जयंती पर आयोजित समारोह में थारू जनजाति की लड़कियों ने शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर वहां उपस्थित नेताओं और दर्शकों का मन मोह लिया। लड़कियों ने इस कार्यक्रम में आत्मरक्षा कला का बेहतर प्रदर्शन कर जता दिया कि वे किसी भी मामले में पीछे नहीं। छात्राओं ने मार्शल आर्ट का जोरदार प्रदर्शन कर जाबांजी की भी शानदार मिसाल पेश की।

 

 

तराई क्षेत्र के थारू इलाके इमलिया कोडर में आयेाजित इस कार्यक्रम में सूबे के तीन मंत्रियों ने शिरकत की और प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही जनकल्याण योजनाओं की जानकारी जनता को दी। कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री रमापति शास्त्री, बलरामपुर जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश राणा और वन एवं पर्यावरण मंत्री उपेन्द्र तिवारी शामिल रहे।

कार्यक्रम में उपस्थित नेता व अन्य गणमान्य लोग

 

इस मौके पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कैबिनेट मंत्री रमापति शास्त्री ने कहा कि सरकार का लक्ष्य पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाना सुनिश्चित करना है। 

 

मुख्य अतिथि के रूप उपस्थित तीनो मंत्रियों ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया और महाराणा प्रताप की प्रतिमा पर मल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर नाना जी देशमुख व पं दीन दयाल उपाध्याय के चित्र पर भी माल्यार्पण किया गया।

 

इस दौरान श्रावस्ती सांसद दद्दन मिश्र, पूर्व सांसद सत्यदेव सिंह, सदर विधायक पल्टू राम, गैसड़ी विधायक शैलेश कुमार सिंह, तुलसीपुर विधायक कैलाश नाथ शुक्ला, तरबगंज विधायक प्रेम नरायण पांडेय सहित बड़ी संख्या में भाजपाई मौजूद रहे।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …