ओएनजीसी सीएमडी के लिए शशि शंकर की नियुक्ति पड़ेगी खटाई में!

मनोज टिबड़ेवाल आकाश

डाइनामाइट न्यूज़ की खबर का बड़ा असर देखने को मिला है। ओएनजीसी के सीएमडी के लिए PESB द्वारा चयनित शशि शंकर की नियुक्ति पर पेट्रोलियम मंत्रालय में हड़कंप मचा हुआ है कि कैसे सस्पेंड रह चुके अफसर को देश की सबसे सरकारी कंपनी का मुखिया बनाया जा सकता है?

ओएनजीसी (फाइल फोटो)
ओएनजीसी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: ओएनजीसी के सीएमडी पद के लिए PESB द्वारा 19 जून को चयनित शशि शंकर के चयन पर पेट्रोलियम मंत्रालय की तलवार लटक रही है।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया है कि मंत्रालय इस बात पर गंभीरता से विचार कर रहा है कि 30 सितंबर को वर्तमान सीएमडी के रिटायर होने के बाद इस स्थान पर अभी शशि शंकर की नियुक्ति न की जाये। इसकी वजह है शशि शंकर का पूर्व का इतिहास।

यह भी पढ़ें: भ्रष्टाचार के मामले में सस्पेंड हो चुके शशि शंकर होंगे ONGC के नये CMD

डाइनामाइट न्यूज़ की 19 जून और 14 अगस्त की खबर के बाद पेट्रोलियम मिनिस्ट्री में हड़कंप मचा हुआ है। पेट्रोलियम मंत्रालय यह नही चाहता कि इस अहम पद पर किसी ऐसी व्यक्ति की नियुक्ति हो जिसका कार्यकाल दागदार रहा हो और भविष्य में फिर किसी गड़बड़ी पर उसे जवाब देना पड़े।

यह भी पढ़े: 86 फीसदी की राय: सस्पेंड हो चुके अफसर को नही बनाया जाना चाहिये ओएनजीसी का सीएमडी

विश्वसनीय सूत्रों ने डाइनामाइट न्यूज़ को बताया कि मंत्रालय तीन विकल्पों पर विचार कर रहा है। पहला मंत्रालय के ही किसी एक वरिष्ठ आईएएस को सीएमडी का अतिरिक्त कार्यभार सौंप दिया जाय़। दूसरा, ओएनजीसी पेट्रो एडिशंस लि. (ओपीएएल) के एमडी अविनाश जोशी को ओएनजीसी की कमान सौंपी जाये। तीसरा, वर्तमान सीएमडी को कुछ औऱ दिनों तक एक्सटेंशन दे दिया जाये।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार