यूपी एसटीएफ ने नकली शराब का व्यवसाय करने वाले 9 को दबोचा..दो वाहन भी किये जब्त

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने नकली शराब का व्यवसाय करने वाले 9 को गिरफ्तार कर लिया है जबकि दो भागने में सफल रहा। डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

गिरफ्तार अभियुक्त
गिरफ्तार अभियुक्त

अमेठी: थाना मोहनगंज क्षेत्र में यूपी एसटीएफ ने नकली शराब का व्यवसाय करने वाले 9 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि दो भागने में सफल रहे। इसके साथ ही आरोपी के पास से दो वाहन भी जब्त किये हैं साथ ही 3126 लीटर शराब भी बरामद किया हैं जिसकी बाजार की कीमत 12 लाख बताई जा रही हैं

थाना मोहनगंज क्षेत्र की दर्जनों ग्राम पंचायतों में आबकारी व पुलिस महकमे की मिलीभगत से एक लम्बे अरसे से नकली शराब का कारोबार बड़े पैमाने पर फलफूल रहा है। बीते माह नवम्बर में ग्राम राजाफत्तेहपुर में भी नकली शराब फैक्ट्री का भण्डाफोड़ हुआ था। ग्राम पंचायत जमुरवां में एसटीएफ टीम ने बुधवार की देर रात छापेमारी कर एक अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। 

 

पुलिस की मानें तो यह नकली शराब अमेठी,रायबरेली, बाराबंकी समेत आसपास के जनपदों की सरकारी दुकानों में बेचीं जाती थी। ये लोग हरियाणा से शराब लाते थे और अमेठी में इसका रैपर चेंज करके बेचते थे। चुनाव के मद्देनजर भारी मात्रा में चुनाव की खेप तैयार की गयी थी। इस कारोबार में अमेठी,रायबरेली व बाराबंकी जनपद के कारोबारी शामिल थे जिन्हें रंगे हाथ दबोचा गया है। एसटीएफ की टीम को काले रंग की सफारी गाड़ी भी हाथ लगी है।

पुलिस पकडे़ गए कारोबारियों में जमुरवां निवासी विनय सिंह समेत रायबरेली जिले के महराजगंज थाने के भेखरा निवासी रविशंकर द्विवेदी, शिवगढ़ थाने के भवानी खेडा अखिलेश कुमार, श्रवन कुमार, राम मिलन, विजय बहादुर, हरिनाम व मिल एरिया थाने के अमाँवा निवासी राहुल गोस्वामी समेत बाराबंकी जिले के कोठी थाना क्षेत्र के नसीरपुर निवासी शमसाद शामिल है जिन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। क्षेत्राधिकारी राजकुमार ने बताया कि नकली शराब कारोबारियों को जेल भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रकरण में स्थानीय पुलिस की संलिप्तता की भी जांँच कराई जायेगी और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या लगता है इस बार के लोकसभा चुनाव में बेरोज़गारी व महँगाई जैसी असली समस्या मुद्दे बन पायेंगे?