लखनऊ: एसटीएफ ने मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश

डीएन ब्यूरो

यूपी एसटीएफ ने देश भर में मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है। एसटीएफ ने इस मामले में गिरोह के 2 लोगों को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार बदमाश
गिरफ्तार बदमाश

लखनऊ: यूपी एसटीएफ के चीफ अमिताभ यश के निर्देशों पर उनकी टीम ने देश भर में मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है। एसटीएफ ने मामले में गिरोह के 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार बदमाश के नाम रविंद्र सिंह और दिवाकर अवस्थी है। इन गिरोह के पास से पुलिस को भारी मात्रा में गांजा मिला है।

ट्रक से हुई गिरफ्तारी

यूपी एसटीएफ को लंबे समय से यूपी सहित देश के कई राज्यों में मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले एक बड़े गिरोह के बारे में सूचना मिल रही थी। जिसके लिए एसटीएफ की टीमें लगातार जानकारी इकट्ठा करने में लगी थीं। इसी सिलसिले में एसटीएफ को सूचना मिली कि कौशांबी जिले के लेहदरी पुल के पास एक ट्रक खड़ा है, जिसमें मादक पदार्थ होने की संभावना है। सूचना के पास मौके पर पहुंचे एसटीएफ ने स्थानीय पुलिस के संग घेरेबंदी कर ट्रक से 2 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

 

कई राज्यों में मादक पदार्थों की सप्लाई

पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपी रविंद्र सिंह ने बताया कि बरामद गांजा की खेप आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम के बालाजी नाम के व्यक्ति ने लखनऊ के लिए भिजवाई थी। बालाजी, आंध्र प्रदेश में मादक पदार्थों का बड़ा सप्लायर बताया जा रहा है जो देश के उड़ीसा, छत्तीसगढ़, बिहार, दिल्ली, हरियाणा आदि राज्यों तक मादक पदार्थों की सप्लाई लंबे समय से करता रहा है।

ट्रक से 14 सौ कुंतल से अधिक गांजा बरामद

एसटीएफ की पूछताछ में गिरफ्तार ट्रक ड्राइवर रविंद्र सिंह ने बताया कि गांजा की यह खेप लखनऊ के जितेंद्र जायसवाल नाम के व्यक्ति तक पहुंचानी थी। ट्रक ड्राइवर ने एसटीएफ को बताया कि जितेंद्र जायसवाल, आंध्र प्रदेश जाकर बालाजी को एडवांस में पैसे देकर माल मंगाया करता था। वहीं एसटीएफ की दबिश में 14 सौ कुंतल से अधिक गांजा बरामद हुआ है। जो ट्रक में नारियल के बोरों के नीचे बड़े शातिर तरीके से छिपाकर रखा गया था। 

मोटे मुनाफे का कारोबार

दूसरे गिरफ्तार आरोपी दिवाकर अवस्थी ने पूछताछ में बताया कि जितेंद्र जायसवाल को गांजे की खेप 10 हजार रुपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से बाला जी से मिलती थी। जिसे वह उन्नाव, कानपुर,लखनऊ, इलाहाबाद, प्रतापगढ़, कौशांबी, फतेहपुर, रायबरेली आदि जिलों के छोटे विक्रेताओं को 15 हजार रुपए  प्रति कुंतल के हिसाब से बेचकर मोटा मुनाफा कमाता था।

जेल भेजे गये आरोपी

मामले में गिरफ्तार आरोपियों के खिलाफ कौशांबी पुलिस ने मुकदमा संख्या 734 /17 , धारा 8/20 एनडीपीएस के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज दिया है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार