पश्चिम बंगाल में सातवें चरण में भी हिंसा, फूंकी गाड़ियां और चले गोली-बम

डीएन ब्यूरो

लोकसभा चुनाव के लगभग हर चरण में हिंसा को लेकर खबरों में रहे पश्चिम बंगाल से एक बार फिर हिंसा की खबरें सामने आ रही हैं। इस बार भाटपारा सीट पर विधानसभा उपचुनाव से पहले हिंसा हुई है। यहां गोलीबारी, बमबारी के बाद एक कार में आग लगा दी गई। घटना के लिए टीएमसी और भाजपा दोनों एक दूसरे पर इल्‍जाम लगा रहे हैं।

घटनास्थल की तस्वीर
घटनास्थल की तस्वीर

कोलकाता: लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के दिन भी पश्चिम बंगाल में हिंसा की खबर आ रही है। पश्चिम बंगाल के भाटपाड़ा विधानसभा क्षेत्र में आज चुनाव से पहले ही हिंसा भड़क गई है। यहां गोलीबारी के बाद गाड़ियों में आग लगा दी गई है और बम फेंकने की खबर सामने आ रही है।

भटपारा में हिंसा के दौरान कार में लगाई आग

पश्चिम बंगाल के कोलकाता से केवल 40 किमी दूर भाटपाड़ा विधानसभा क्षेत्र में आज चुनाव से पहले ही हिंसा भड़क गई थी। गोलीबारी के बाद गाड़ियों में आग लगा दी गई है और बम फेंकने की खबर है। आरोप है कि बीजेपी नेता अर्जुन सिंह पर फायरिंग हुई। इलाके में हुई हिंसा के दौरान दो कारों को भी जला दिया गया। दोनों ही पार्टियों ने एक दूसरे को इस हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया है।

हिंसा को बढ़ता देख स्थिति पर नियंत्रण करने के लिए इलाके में आरएएफ की टीम को तैनात किया गया। वहीं फायर ब्रिगेड को बुलाकर गाड़ियों में लगी आग को बुझाई गई। फिलहाल स्थिति नियंत्रण में हैं लेकिन आशंका जताई जा रही है कि यहां फिर से हिंसा हो सकती है।

डायमंड हार्बर लोकसभा सीट से ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे बीजेपी कैंडिडेट निलांजन रॉय की कार पर हमला हुआ है। यहां के डोंगरिया इलाके में रॉय की कार पर हमला हुआ। 

वहीं टीएमसी से बीजेपी में आए अनुपम हाजरा ने आरोप लगाया कि बूथ नंबर 150/137 पर चेहरा ढककर टीएमसी की महिला कार्यकर्ता फर्जी वोट डाल रही हैं, उन्हें पहचानना मुश्किल है। उनकी आपत्ति पर टीएमसी कार्यकर्ताओं ने पोलिंग स्टेशन पर जमकर हंगामा किया।

मथुरापुर में महिला मतदाताओं ने बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगाया है। यहां के मोगराहाट में कई महिलाएं हाथों में डंडे लेकर सड़क पर उतरीं और बूथ पर कब्जे का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। 

वहीं, बसीरहाट लोकसभा सीट से बीजेपी कैंडिडेट सायंतन बसु ने आरोप लगाया है कि टीएमसी के कार्यकर्ता लोगों को वोट देने से रोक रहे हैं। बसु का आरोप है कि 100 लोगों को वोट डालने से रोका गया है।

यह पहला मौका नहीं है जब टीएमसी और बीजेपी के कार्यकर्ताओं के बीच बंगाल में हिंसा की खबरे आईं। इस लोकसभा चुनाव में पिछले छह चरणों में लगातार बंगाल हिंसा का केंद्र बना हुआ है। 

पहले चरण में कूच विहार में झड़प हुई, दूसरे चरण में रायगंज, तीसरे चरण में मुर्शिदाबाद, चौथे चरण में आसनसोल, पांचवें चरण में हूगली, छठे चरण में घाटाल और सातवें चरण में बैरकपुर में बवाल हो गया।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार