DN Exclusive: इंटरनेट व कंप्यूटर के अनोखे उपयोग ने दिलाई जिनको शोहरत, बटोरी दुनिया में सुर्खियां

डीएन ब्यूरो

तकनीक की दुनिया में हर कोई आज स्मार्ट मोबाइल और इंटरनेट का आदि हो गया हैं। हम जहां फेसबुक, व्हाट्सएप और यूट्यूब का इस्तेमाल सिर्फ टाइम पास के लिए करते हैं, वहीं इसका सकारात्मक प्रयोग करके कुछ लोगों ने दुनिया भर में अनोखे काम कर सुर्खियां बटोरी। डाइनामाइट न्यूज़ की इस एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में पढ़ें ऐसे ही प्रेरित करने वाले कुछ किस्से..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्लीः हमारे देश में हुनरमंदों की कमी नहीं है। यहां एक से बढ़कर एक ऐसे शख्स हैं जो न सिर्फ अपने काम से प्यार करते हैं बल्कि इनका यहीं जुनून इनको दे रहा है प्रेरणा कुछ अलग करने की। वहीं इन लोगों ने अपने कामों से ऐसे रिकार्ड बना डाले हैं, जिसे देखकर व पढ़कर लोग दंग है। 

आइए जानते हैं ऐसे लोगों की प्रेरित कहानी

1. जेएनयू के कमर्चारी विनोदः जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(JNU) के कर्मचारी विनोद कुमार सिर्फ अकाउंटिंग डिपार्टमेंट में अंकों का हिसाब ही नहीं रखते बल्कि उन्होंने अपनी टाइपिंग के जरिए गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में चार बाद नाम दर्ज करवाया है। इनका हालिया रिकॉर्ड्स ये हैं कि इन्होंने मुंह में डंडी डालकर A से Z तक अंग्रेजी वर्णमाला लिखी है। यह कारनामा विनोद ने केवल 17.69 सेकेंड में किया। विनोद नांगलाई में रहते हैं कहते हैं कि मैंने आंखें बंद करके अंग्रेजी वर्णमाला को 6.71 सेकेंड में लिखा था। वहीं एक अंगुली से 29.53 सेकेंड में वर्णमाला लिखी जिससे गिनीज बुक रिकॉर्ड्स मेरा 4 बार नाम दर्ज हुआ है। 

2. हैदराबाद के खुर्शीद हुसैनः जहां सामान्य व्यक्ति कम्प्यूटर व टाइपराइटर पर हाथों से टाइप करता हैं वहीं हैदराबाद के खुर्शीद हुसैन जो इंजीनियरिंग के छात्र रह चुके है, इन्होंने टाइपिंग की एक नई कला ईजाद की। खुर्शीद हाथों से नहीं बल्कि अपनी नाक से टाइपिंग करते हैं। इस पर इनका नाम गिनीज बुक के पन्नों में भी दर्ज को चुका है। खुर्शीद दो बार ये रिकार्ड गिनीज बुक में दर्ज करवा चुके हैं। नाक से टाइपिंग को लेकर खुर्शीद कहते हैं कि गिनीज बुक ने नाक के जरिए एक वाक्य टाइप करने के लिए दिया और मैंने वह कारनामा महज 43 सेकेंड में कर दिया। जिसके बाद मेरा नाम भी गिनीज बुक में शामिल हो गया। 

3. सोनाली भदौरियाः इन्फोसिस, पुणे की इस सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने क्रॉप टॉप और डेनिम शॉर्ट पहनकर एड शीरन के लोकप्रिय और कामयाब गाने शेप ऑफ यू पर डांस किया और इस वीडियो को यूट्यूब पर डाला। यह चंद पलो में लोगों को इतना भाया कि अब तक इसे 80 लाख बार से अधिक लोग देख चुके हैं। इसकी बदौलत इन्हें शीरन के लंदन में होने वाले कंसर्ट के टिकट के लिए भी ऑफर आया। आइटी कंपनी की डांस टीम क्रेजी लेग्ज की सदस्य सोनाली भदौरिया कहती हैं कि उन्होंने अब कंपनी से छुट्टी लेकर अपने यूट्यूब चैनल 'लिवटूडांस विद सोनाली' पर ज्यादा ध्यान शुर कर दिया है। यह चैनल शादियों के लिए शुरू किया गया था, पर अब भदौरिया के बॉली-हॉप वीडियो का ठिकाना बन गया है। इन वीडियो में वह कोरियोग्राफी करती और सिखाती हैं।

4.  श्रुति आनंदः 30 साल की श्रुति आनंद की महीने की अनुमानित कमाई 10 लाख से 35लाख रुपए है। इनके आज 3.13 लाख सब्सक्राइबर्स भी है। वहीं 5.9 करोड़ से ज्यादा इनके व्यूवर है। यह सब हुआ यूट्यूब की वजह से। श्रुति बताती हैं कि जब 2010 में जब वॉशिंगटन डीसी में काम करती थी तो घर से ऑफिस तक 90 मिनट के सफर में मैं यूट्यूब पर अक्सर How to वीडियो सर्च करती थी और देखती थी। यहीं से उन्हें यूट्यूब पर वीडियो शूट करने व इसे अपलोड करने का आईडिया आया और वह भारत लौटी और यहां कॉस्मेटिक प्रॉडक्ट्स के वीडियो डालने लगी और वह हर महीने इससे लाखों रुपए कमा रही है।

5.  भव्या अग्रवालः राजस्थान कोटा की रहने वाली भव्या अग्रवाल जो एक छात्रा हैं इन्होंने यू-ट्यूब की मदद से ऐसा सुरक्षा यंत्र विकसित किया, जिससे किसी भी महिला की हाथ में पहनने वाली घड़ी से जोड़ा जा सकता है। इस यंत्र की खास बात यह हैं कि इसे बगैर इंटरनेट के आपात स्थिति में भी परिवार के सदस्यों को अलर्ट भेजने में भी मदद होती है। भव्या अग्रवाल बताती हैं कि उन्होंने इसे प्रधानमंत्री मोदी के आधिकारिक नमो एप पर परियोजना की जानकारी के लिए अपलोड भी किया है। क्योंकि उन्हें इस यंत्र को सूक्ष्म आकार में बनाने के लिए फंड की जरूर है।













संबंधित समाचार