बहराइच: मेडिकल स्टोरों पर युवाओं को बेची जा रही हैं मौत की दवाएं

डीएन संवाददाता

बहराइच से सटे इण्डो नेपाल बार्डर पर बगैर लाइसेंस के पचासों मेडिकल स्टोर संचालित हो रहे हैं और खुलेआम मेडिकल स्टोरों पर युवाओ को नशीली दवाएं बेची जा रहीं हैं।

मेडिकल स्टोर के पीछे खाली पड़ी नशे में प्रयोग की जाने वाली सीरप की बोतलें
मेडिकल स्टोर के पीछे खाली पड़ी नशे में प्रयोग की जाने वाली सीरप की बोतलें

बहराइच: उत्तर प्रदेश के जनपद बहराइच से सटे इण्डो नेपाल बार्डर का रूपईडीहा इलाका पूरी तरह नशे के मकड़जाल में फंसा हुआ है। 20 हजार के आबादी वाले इस मार्केट में तकरीबन 140 मेडिकल स्टोर गली कूचों में खुले हुए हैं। कुछ मेडिकल स्टोरों को छोडकर बाकी के पास ना तो मेडिकल स्टोर संचालित करने के लिए डिग्री है। ये सिर्फ सुबह से शाम तक नशीली दवाएं ही नशेड़ियों को बेचते हैं।

यह भी पढ़ें: चेकिंग अभियान में पुलिस ने धरे 32 माफिया

यह भी पढ़ें: नेपाली शराब की तस्करी में सात लोग गिरफ्तार

नेपालगंज से प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में नशेड़ी इन मेडिकल स्टोरों पर नशीली दवाओं के सेवन करने हेतू आते हैं। जिसकी वजह से यहां की युवा पीढ़ी पूरी तरह से बर्बादी के कगार पर पहुंच चुकी है। जबकि कई बार केवलपुर प्रधान पति मो० जुबेर फारूकी ने इस मामले की शिकायतें भी अधिकारियों से की लेकिन अधिकारियों ने इसकी अनदेखी की। अब तो चकिया रोड से लेकर छोटी नहर तक के आस पास खुले मेडिकल स्टोरों में बड़े पैमाने पर स्मैक की बिक्री भी की जा रही है। अब देखना यह है कि आला अधिकारी किस प्रकार से इनके विरुद्ध कार्यवाही करते हैं यह देखने वाली बात होगी।













संबंधित समाचार