अमेरिकी उत्‍पादों पर भारत 100 फीसदी से अधिक वसूलता है टैक्‍स : डोनाल्ड ट्रंप

डीएन ब्यूरो

चीन के बाद भारत अमेरिकी उत्‍पादों पर सबसे अधिक टैक्‍स वसूलता है। अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप भारत को टैक्‍स किंग का तमगा दे चुके हैं। वह कहते हैं भारत अनुचित व्‍यापार प्रथाओं को जारी रखे हुए है जो व्‍यापारिक संबंधों में रुकावट का कारण बनी हुई हैं।

फाइल फोटो

नई दिल्‍ली: ट्रंप भारत पर अमेरिकी उत्‍पादों पर 100 फीसदी से अधिक टैक्‍स वसूलने के मुद्दे पर निशाना साधते रहे हैं। इस बार उन्‍होंने इस पर निशाना साधने के साथ साथ अपने प्रशासन को इस तरह के अव्‍यावहारिक कारोबार पर गौर करने को कहा है। अमेरिकी राष्‍ट्रपति बार-बार भारत को ट्रैफिक किंग कहते रहे हैं। भारत चीन के बाद इ‍कलौता ऐसा देश है जो अमेरिका से बहुत अधिक टैक्‍स की वसूली करता है। 

तीन लातिन अमेरिकी देशों पर गुस्‍से में लाल हुए ट्रंप.. आर्थिक मदद बंद करने का निर्णय

यह बातें अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने शनिवार को लास वेगास में रिपब्लिकन यहूदी गठबंधन को संबोधित करते हुए कहीं। उन्‍होंने कहा हमारे पास एक मसला है। भारत एक महान देश है, लेकिन महान दोस्‍त भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिकी उत्‍पादों पर 100 फीसदी से भी अधिक का टैक्‍स वसूलते हैं। जबकि हमारा देश अमेरिका में आने वाले भारत के उत्‍पादों पर कोई शुल्‍क नहीं वसूलता है।

अमेरिकी संसद में प्रस्‍ताव पेश, तबाह किए जाए पाकिस्तान में मौजूद आतंकी ठिकाने

अपने भाषण के दौरान ट्रंप ने यह भी जताने की कोशिश की कि भारत पर शुल्‍क लगाने के मसले पर उन्‍हें सीनेटरों की ओर से तमाम तरह की बााधाओं का भी सामना करना पड़ रहा है। उन्‍होंने कहा भारत, चीन के बाद ऐसा दूसरा देश है जो अमेरिकी उत्‍पादों पर सबसे अधिक टैक्‍स वसूलता है। ट्रंप ने भारत के संदर्भ में कहा वह अव्‍यावहारिक व्‍यापार और अनुचित व्यापार प्रथाओं को जारी रखे हुए है। जिससे समस्‍याएं जटिल हो रही हैं।

ट्रम्प के कारण अमेरिका में खड़ा हुआ नया संकट, लाखों लोगों की नौकरी पर खतरा

गौरतलब है कि अमेरिका पुलवामा में हुए आतंकी हमले और फिर पाकिस्तान में आतंकी अड्डों पर एयर स्ट्राइक के मसले पर भारत के साथ खड़ा रहा था। लेकिन बदलती परिस्थितियों में आर्थिक मोर्चे पर भारत को बड़ा झटका लग सकता है। ट्रंप ने व्यापार में भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस (जीएसपी) से बाहर करने संबंधी बयान देकर हलचल पैदा कर दी थी। ट्रंप ने इस बात पर गंभीरता से अमल करते हुए वहां की संसद को एक पत्र लिखकर सूचित कर दिया था।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार