मेरठ की इस बेटी ने जीता गोल्ड मेडल, पिता ने सीएम योगी से लगाई आर्थिक मदद की गुहार..

डीएन संवाददाता

हमने कई ऐसे बेहतरीन खिलाड़ियों की कहानियां सुनी हैं जिन्होंने बेहद अभावों में भी न केवल अपने जुनून को कायम रखा बल्कि बेहतरीन प्रदर्शन करते कई मेडल जीते, अपने स्टेट और देश का नाम रौशन किया। रुबीना भी इन्हीं खिलाड़ियों में से एक हैं। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..


मेरठ: रूबीना सैफी एक निशानेबाज़ हैं। खुद की राइफल नहीं है उनके पास। लेकिन फिर भी उन्होंने यूपी राइफल एसोसिएशन द्वारा आयोजित प्रतियोगिता के 50 मीटर राइफल निशाने में न केवल हिस्सा लिया बल्कि बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए गोल्ड और सिल्वर मेडल भी जीता। साथ ही उन्होंने 1200 में से 1161 अंक प्राप्त कर यूपी स्टेट की प्रतियोगिता में एक नया रिकॉर्ड भी बनाया है। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने रुबीना को गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया है।

यह भी पढ़ें: मेरठ: मुफ्त की मिट्टी ले बैठी मजदूर की जान, 4 लाख में हुआ समझौता

 

रुबीना के पास नहीं है खुद की राइफल
यह प्रतियोगिता प्रदेश की राजधानी लखनऊ के नगर निगम शूटिंग रेंज में आयोजित की गई थी। चूंकि गोल्ड मेडल जीतने वाली रूबीना के पास अपनी खुद की राइफल नहीं थी इसलिए उन्होंने बीएसएफ की राइफल से प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। उनके पिता ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपनी बेटी के लिए एक राइफल की मांग की है ताकि वह अपने इस जुनून को जारी रख सके और देश और विदेश की अन्य प्रतियोगिताओं में भी हिस्सा ले सके। 

यह भी पढ़ें: मेरठ: मदरसे से लौट रही छात्रा के ऊपर चाकू से मनचले ने किया ताबड़तोड़ हमला, परिवार सहित फरार

देश और विदेश में नाम रौशन करना चाहती हैं रूबीना 
डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता से बात करते हुए रुबीना ने कहा कि वे यूपी स्टेट में गोल्ड मेडल जीतने के बाद अब केरल में राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाहती हैं। उनका कहना है कि उनके पास इतने पैसे नहीं हैं कि वे खुद की राइफल खरीद सकें। इसलिए बीएसएफ की राइफल से प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेती हैं। लेकिन बीएसएफ की ओर से हर प्रतियोगिता के लिए उन्हें ये राइफल नहीं मिलती। उनका कहना है कि यदि सरकार उन्हें एक राइफल खरीद कर दे दे तो वह हर प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकेंगी। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने राज्य और देश का नाम रौशन कर सकेंगी। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार