महाराष्ट्र संकट पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू, सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने रखी अपनी दलीलें

डीएन ब्यूरो

पिछले एक महीने से महाराष्ट्र में चल रही सियासी हलचल के बीच आज दूसरे दिन सुनवाई शुरू हो चुकी है। कोर्ट में बीजेपी, कांग्रेस, एनसीपी के कई सांसद विधायक अदालत में मौजूद हैं। देवेंद्र फडणवीस की ओर से मुकुल रोहतगी सुप्रीम कोर्ट में पक्ष रख रहे हैं। वरिष्ठ वकील मनिंदर सिंह अदालत में अजित पवार का पक्ष रख रहे हैं। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर...

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः आज हर किसी की नज़र सुप्रीम कोर्ट पर है, जहां अदालत राज्य के सियासी भविष्य पर फैसला सुनाया जा रहा है। सुनवाई की शुरुआत राज्यपाल की तरफ से तुषार मेहला अपनी दलीलें दे रहे हैं। 

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में सियासी उथल-पुथल के बीच अजित पवार ने किए ताबड़तोड़ Tweet, लिखा- मैं एनसीपी में...

उन्होंने इस दौरान राज्यपाल को मिले संवैधानिक अधिकारों का हवाला दिया और कहा कि बीजेपी और शिवसेना के गठबंधन की जानकारी राज्यपाल को थी। इसके अलावा बीजेपी और शिवसेना के हक में ही नतीजे थे। उन्होनें कोर्ट में अजीत पवार द्वारा दी गई समर्थन चिट्ठी पेश की है। इस चिट्ठी में अजित पवार ने कहा कि उन्हें सारे विधायकों का समर्थन है। इस चिट्टी में सारे विधायकों के हस्ताक्षर हैं। बीजेपी के 105 विधायकों के अलावा अजित पवार ने 54 विधायकों का समर्थन पत्र सौंपा था, जिसमें अजित ने खुद को विधायक दल का नेता बताया।

22 नवंबर की चिट्ठी में अजित पवार ने खुद को CLP बताया और कहा कि 54 विधायकों ने उन्हें अधिकार दिया है। फडणनीस ने राज्यपाल को 170 विधायकों का समर्थन दिखाया था। SG ने कहा कि राज्यपाल के पास चिट्ठी आई थी, राज्यपाल का काम जांच करवाना नहीं है।













संबंधित समाचार