अब स्मार्टफोन के ऐप के जरिए संचालित किये जा सकते हैं हियरिंग एड..

डीएन ब्यूरो

आंशिक अथवा पूर्ण रूप से सुन पाने में असमर्थ लोगों के लिए वरदान साबित हुए श्रवण यंत्र (हियरिंग एड) अब स्मार्टफोन के ऐप के जरिए संचालित किये जा सकते हैं और उपभोक्ता स्वयं अपनी जरुरत के अनुरुप इसकी फ्रीक्वेंसी में बदलाव कर सकता है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें पूरी डिटेल..

फाइल फोटो
फाइल फोटो

नई दिल्ली: आंशिक अथवा पूर्ण रूप से सुन पाने में असमर्थ लोगों के लिए वरदान साबित हुए श्रवण यंत्र (हियरिंग एड) अब स्मार्ट फोन के ऐप के जरिए संचालित किये जा सकते हैं और उपभोक्ता स्वयं अपनी जरुरत के अनुरुप इसकी फ्रीक्वेंसी में बदलाव कर सकता है। 

आज ही के दिन पहली बार बाॅस्केटबॉल खेला गया था, जानें 29 फरवरी का इतिहास

डिजिटल माॅडल के हियरिंग एड में व्यक्ति की सुनने की क्षमता के हिसाब से कम्प्यूटर के जरिये इसकी फ्रीक्वेंसी लोड की जाती है। यही फ्रीक्वेंसी आसपास की ध्वनि को मस्तिष्क के केंद्र से जुड़ी कानों की कोशिकाओं तक पहुंचाती है और व्यक्ति को सूक्ष्म ध्वनि भी सहज सुनायी देने लगती है। 

महराजगंज: शिक्षा के अधिकार कानून की उड़ी धज्जियां, स्कूल प्रशासन ने बच्चों को खदेड़ा, फीस नहीं मिलने पर कमरे में किया बंद

ऑडियोलाजिस्ट हिमांशु सिन्हा का कहना है कि हियरिंग एड संचालित करने के लिए स्मार्टफोन का उपयोग करना ही पड़े यह आवश्यक नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से सेटिंग्स को समायोजित करने और इसके फंक्शन को बदलने में आसान बना सकता है। उपभोक्ता के फायदे के लिये हियरिंग एड निर्माता ऐसे उत्पादों को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं जिसका इस्तेमाल स्मार्टफोन के जरिए किया जाता है। यह यूजर्स के लिए फायदेमंद भी है, क्योंकि यह उन्हें किसी भी वातावरण में सुनने के तरीके पर अधिक नियंत्रण प्रदान करता है। (वार्ता) 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

Loading Poll …