बीएचयू में छात्राओं पर लाठीचार्ज, आगजनी-पथराव के बाद कॉलेज 2 तक बंद

डीएन ब्यूरो

बीएचयू में छात्राओं के साथ छेड़खानी के विरोध में दो दिन से चल रहा धरना- प्रदर्शन शनिवार देर रात हिंसक हो गया। प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पुलिस ने छात्राओं पर लाठीचार्ज किया, जिससे मामला हिंसक हो गया।

तनाव के बाद बीएचयू के बाहर तैनात पुलिस
तनाव के बाद बीएचयू के बाहर तैनात पुलिस

वाराणसी: बीएचयू कैंपस में छात्राओं के साथ छेड़खानी के विरोध में दो दिन से चल रहा धरना-प्रदर्शन शनिवार की देर रात हिंसक हो गया। रात को प्रदर्शन कर रहे छात्र कुलपति जीसी त्रिपाठी के आवास के पास प्रदर्शन करने लगे। प्रदर्शनकारियों की भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने छात्राओं पर लाठीचार्ज किया, जिससे मामला अधिक हिंसक हो गया। हालात बेकाबू होते देख वहां भारी पुलिस बल तैनात है और कॉलेज के 2 अक्टूबर तक बंद कर दिया गया है।

बीएचयू के बाहर प्रदर्शनकारी छात्रायें


 पुलिस लाठीचार्ज से प्रदर्शनकारी उग्र हो गये और आगजनी पर उतर आये। रात के करीब 12 बजे बीएचयू हॉस्टल से कई पेट्रोल बम भी फेंके गए हैं। देर रात तक पुलिस व छात्रों के बीच जगह-जगह पथराव होते रहे जिससे हालात बेकाबू हो गये। बेकाबू छात्रों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी दागे। बवाल और आगजनी बढ़ता देख यूनिवर्सिटी को 2 अक्टूबर तक के लिए बंद रखने का अदेश दिया गया है।

प्रदर्शन के दौरान कई छात्राएं घायल भी हो गई है। बताया जा रहा है कि छात्र- छात्राओं में कुलपति जीसी त्रिपाठी को लेकर जबरदस्त आक्रोश है। छेड़खानी से परेशान कुछ छात्र-छात्राएं कुलपति से मिलने की मांग करे थे। 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार