महराजगंजः जिला पंचायत सदस्य के पुत्र की दिनदहाड़े हत्या से मची सनसनी, पुलिस के बड़े अफसरों की खुली पोल

डीएन ब्यूरो

आज महिला जिला पंचायत सदस्य के प्रतिनिधि पुत्र जितेन्द्र यादव की अज्ञात बदमाशों ने गोली मार कर जान ले ली। इसके बाद उसकी मौत हो गई है। इस जघन्य हत्या के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। दो महीने पहले भी मृतक पर हत्या के मकसद से गोली चलायी गयी थी लेकिन किसी तरह वह बच गया था लेकिन पुलिस के बड़े अफसरों ने उसकी सुरक्षा को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया और आज उसकी हत्या हो गयी। और पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर...


महराजगंजः पुरंदरपुर थाने के हरैया बरगदवा निवासी जिला पंचायत सदस्य अमरावती देवी के पुत्र जितेन्द्र यादव पर दो महीने के भीतर दूसरी बार गोलियों से हमला किया गया और उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। 

यह भी पढ़ेंः बैंक लूटकांड की जांच करने यूपी एसटीएफ के चीफ अमिताभ यश पहुंचे महराजगंज, बड़े अफसरों के छूटे पसीने

मृतक जितेन्द्र यादव (फाइल फोटो)

डाइनामाइट न्यूज़ संवाददाता के मुताबिक इस पर अज्ञात बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोली मारी है और इसके बाद वे आसानी से फरार हो गये। डाइनामाइट न्यूज़ को मिली जानकारी के मुताबिक फरेंदा विकास खंड वार्ड नंबर 28, हरैया बरगदवां की जिला पंचायत सदस्य अमरावती देवी के पुत्र जितेंद्र यादव अपने मित्र चेहरी निवासी 24 वर्षीय जितेंद्र यादव के साथ सोमवार को दिन में किसी काम से फरेन्दा इलाके के महदेवा चौराहे पर गए थे। यहां से करीब दो बजे बाइक से वापस घर लौट रहे थे। अभी वह फरेंदा क्षेत्र के महुअवां गांव के करीब पहुंचे थे कि लघु शंका के लिए बाइक से उतर गए। उसी दौरान एक ही बाइक पर सवार दो बदमाश पहुंचे और ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। जितेंद्र यादव किसी प्रकार भागकर जान बचाने का प्रयास कर रहे थे कि बदमाशों ने दौड़ाकर उनके सिर पर गोली मार दी जिससे वह जमीन पर गिर गए। उनका साथी जितेंद्र विरोध करते हुए जब एक बदमाश को पकड़ने का प्रयास किये तो उसे भी गोली मार दी गई जिससे वह बुरी तरह घायल हो गया। दोनों का नाम जितेन्द्र यादव है। घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनकटी ले जाया गया। जितेंद्र यादव की हालत नाजुक देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। मृतक जितेन्द्र यादव के दूसरे सहयोगी जितेन्द्र यादव पुत्र चन्द्रपति यादव, ग्राम- चेहरी, थाना- कोतवाली सदर के रहने वाले थे। 

हत्या के बाद मृतक जितेन्द्र यादव

इसके बाद नाराज लोगों ने हंगामा कर दिया। सड़क जाम के बाद पुलिस के हाथ-पांव फूल गये।

 

यह भी पढ़ेंः महराजगंज की बड़ी खबर- फरेन्दा कोतवाल आशुतोष सिंह को किया गया निलंबित

बताया जा रहा है कि मृतक जितेन्द्र यादव सपा का नेता था। 

वार्ड नंबर 28 के जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि जितेन्द्र यादव को दूसरी बार गोली मारी गई है। 

गोली कांड मे घायल दूसरा व्यक्ति

इसके पहले उसे दशहरे के दिन 7 अक्टूबर को अज्ञात बदमाशों ने गोली मारी थी। मृतक के परिजनों ने न्याय की मांग करते हुए चक्का जाम कर दिया है। 

हत्या स्थल की तस्वीर 

जनपद मुख्यालय के शवगृह पर भी हंगामा मचा हुआ है। मृतक के परिजनों ने इस मामले को लेकर सत्तारुढ़ दल के एक नेता की शह पर हत्या का आरोप लगाया है। इन सभी का कहना है कि दो महीने पहले हत्या की जब कोशिश हुई थी इसके बाद से लगातार वे लोग सुरक्षा की मांग कर रहे थे लेकिन जान-बूझकर पुलिस प्रशासन के बड़े अफसरों ने एक साजिश के तहत सुरक्षा नहीं मुहैया करायी। इन लोगों ने समूचे मामले की जांच, कार्यवाही और हत्यारों व साजिशकर्ताओं की गिरफ्तारी की मांग को लेकर हंगामा शुरु कर दिया है। 

इस घटना के बाद डाइनामाइट न्यूज़ पर बयान देते हुए महराजगंज के एसपी रोहित सिंह सजवान ने कहा है कि मृतक पर पहले से कई मुकदमे थे और इस वारदात के पीछे पुरानी रंजिश से इंकार नहीं किया जा सकता। 

 

 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार