Uttar Pradesh: छुट्टी पर आए जवान के साथ हुआ कुछ ऐसा की सबकी आंखें हो गई नम

डीएन ब्यूरो

छुट्टी खत्म होने के बाद वापस अपनी तैनाती पर जा रहे एक सैनिक के साथ कुछ ऐसा हुआ की वो कभी ड्यूटी पर वापस नहीं लौट पाया। सैनिक के गांव में हर जगह सन्नाटा पसरा हुआ है। लोगों की आंखें अभी तक नम हैं। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर...


अमेठीः जायस कोतवाली के अन्तर्गत ग्राम नकदैयापुर निवासी संतोष कुमार त्रिपाठी सेना में हवलदार के पद पर राजस्थान में तैनात थे। कुछ दिन पहले ही वो छुट्टी लेकर अपने गांव आए थे। शनिवार शाम को वो अपनी पत्नी नीता त्रिपाठी के साथ पुनः ड्यूटी पर जाने के लिए टिकट कराने रायबरेली जा रहे थे। तभी रास्ते में हैबतमऊ पुल के पास पीछे से अज्ञात वाहन ने जोरदार टक्कर उनकी स्कूटी में मार दी। ये टक्कर इतनी ज्यादा जबरदस्त थी की दोनों पति-पत्नि गंभीर रूप से घायल हो गए।

यह भी पढ़ेंः हैवानियत की हदें हुई पार, किशोरी का बलात्कार कर जिंदा जलाया 

 मृतक संतोष त्रिपाठी

दोनों को मिलट्री के कमान्ड अस्पताल लखनऊ में भर्ती कराया गया। जहां बीती रात हवलदार संतोष त्रिपाठी की मृत्यु हो गई और पत्नी नीता त्रिपाठी का अभी भी इलाज चल रहा है। संतोष त्रिपाठी और नीता त्रिपाठी के 2 बच्चे हैं जिनमें से एक 14 साल की बेटी है और एक 12 साल का बेटा है।

यह भी पढ़ेंः महराजगंज के जितेन्द्र यादव हत्याकांड में फ़रेंदा पुलिस ने तीन को किया गिरफ़्तार 

हवलदार संतोष त्रिपाठी और पत्नी नीता त्रिपाठी की फाइल फोटो

कमांड हॉस्पिटल में सेना के जवानों ने हवलदार संतोष त्रिपाठी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया और पैतृक गांव में डोगरा रेजीमेंट के जवानों ने राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया। सैनिक के अंतिम संस्कार में भारी संख्या में लोग शामिल थे और उन्हें नम आंखों से श्रद्धांजलि देकर अंतिम विदाई दी। संतोष त्रिपाठी के पिता रामनरेश त्रिपाठी ने मिल एरिया में अज्ञात वाहन के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)








संबंधित समाचार