सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने पांच हाई कोर्ट में मुख्य न्यायधीशों के नाम की सिफ़ारिश की

डीएन संवाददाता

सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने शुक्रवार को देश के पांच उच्च न्यायालयों में चीफ जस्टिसों की नियुक्ति के लिये पांच नामों की सिफारिश की है। डाइनामाइट न्यूज़ की इस एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में जानें, किन जस्टिसों के नामों की हुई सिफारिश..

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने देश के पांच उच्च न्यायालयों में मुख्य न्यायधीशों के नाम की सिफ़ारिश की है। जिन उच्च न्यायालयों में चीफ जस्टिस की नियुक्ति होनी है, उनमें बॉम्बे हाई कोर्ट, कलकत्ता हाई कोर्ट, उत्तराखंड हाई कोर्ट, गुवाहाटी और सिक्किम हाई कोर्ट शामिल है।

यह भी पढ़ें:सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आम्रपाली ग्रुप के तीन निदेशकों को पुलिस ने हिरासत में लिया 

देश के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट के इस कॉलेजियम में जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस कूरियन जोसेफ शामिल है। 

पांच हाई कोर्ट के लिये प्रस्तावित चीफ जस्टिस 

यह भी पढ़ें: CJI जस्टिस रंजन गोगोई के निजी जीवन के बारे में ये जानकर रह जायेंगे दंग.. 

मुख्य न्यायधीशों के प्रस्तावित नाम 

1. बॉम्बे हाई कोर्ट: सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने बॉम्बे हाई कोर्ट के लिये वरिष्ठ जज और बॉम्बे हाई कोर्ट के एक्टिंग जस्टिस एन. एच. पाटिल को नाम की सिफारिश की है।

2. उत्तराखंड हाई कोर्ट: तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस रमेश रंगनाथन के नाम की सिफारिश उत्तराखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के लिये की गयी है।

3. गुवाहाटी हाई कोर्ट: जस्टिस ए. एस. बोपन्ना के नाम की सिफारिश गुवाहाटी हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के रूप में की गयी है। 

4. कलकत्ता हाई कोर्ट: कलकत्ता हाई कोर्ट के सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस डी. के. गुप्ता के नाम की सिफारिश कलकत्ता हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के रूप में की गयी है।

5. सिक्किम हाई कोर्ट: उत्तराखंड हाई कोर्ट के सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस विजय कुमार बिष्ट के नाम की सिफारिश सिक्किम हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में की गयी है। 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?