सिद्धार्थनगर: एसएसबी ने मानव तस्करी के मामले का भंडाफोड़ कर युवती को बचाया, दो गिरफ्तार

डीएन संवाददाता

नेपाल के रास्ते मानव तस्करी का सिलसिला जारी है। इस मामले में सशस्त्र सीमा बल ने एक तस्करी के मामले का भंडापोड़ कर एक युवती को बचा लिया। इस मामले में महिला समेत दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूरी खबर..

एसएसबी की टीम और गिरफ्तार आरोपी
एसएसबी की टीम और गिरफ्तार आरोपी

सिद्धार्थनगर: सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) ने नेपाल-भारत सीमा पर मानव तस्करी से जुड़े एक बड़े मामले का पर्दाफाश किया है। एसएसबी ने नेपाल से तस्करी के जरिये लाई जा रही एक लड़की को मुक्त करा दिया है। इस मामले में एक युवक और महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

तस्करों के चंगुल से छुड़ाई गयी लड़की को एक एनजीओ के हवाले कर दिया गया है। 

एसएसबी के सहायक सेना नायक गौरव कुमार सिंह ने बताया की बुधवार शाम को एसएसबी ने गश्त करने दौरान बढ़नी रेलवे स्टेशन के पास तीन व्यक्तियों को सदिंग्ध अवस्था में देखा, जिनसे पूछताछ के बाद इस मामले का खुलासा हो सका। इस मामले में एक महिला शान्ता परियार (36) पुत्री दुर्गा दमई निवासी दांग नेपाल व एक व्यक्ति शंकर वासनेत (25) पुत्र नर बहादुर वासनेत  निवासी जाजरकोट नेपाल को गिरफ्तार किया गया। दोनों एक युवती, जो नेपाल दांग की निवासी है, को बहला-फुसलाकर ले जा रहे थे।

पूछताछ में पता चला तस्करों के चंगुल में फंसी युवती को नौकरी की तलाश थी। फेसबुक पर तस्करों ने नौकरी की आश्यकता के बारे में व मोबाइल नम्बर सहित एक पोस्ट किया था। करीब एक सप्ताह पहले युवती को शंकर वासनेत नामक व्यक्ति का फोन आया। जिसने उसे बनारस में 20 हजार के वेतन पर नौकरी दिलाने का झांसा दिया। इसी के आधार पर युवती उनके चंगुल में फंस गयी थी।

एसएसबी ने अग्रिम कार्यवाही के लिए युवती को नेपाल पुलिस के माध्यम से स्वंय सेवी संस्था किंगडम इन्वेस्टमेंट को सुपुर्द कर दिया है। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ जारी है।

उक्त टीम में एसएसबी सहायक सेनानायक गौरव कुमार सिंह, महिला उपनिरीक्षक ललिता, विजय कुमार, मोहनलाल, अभिषेक, सविता कुमारी शाधना राई मौजूद रही।
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार