कानपुर में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से नाराज शिक्षामित्र सड़क पर उतरे

डीएन संवाददाता

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से आहत शिक्षामित्रों ने कानपुर में शुक्रवार को फूलबाग स्थित हज़ारों की संख्या में एकजुट होकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पुरजोर विरोध किया।

 प्रदर्शन करते शिक्षामित्र
प्रदर्शन करते शिक्षामित्र

कानपुर: बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट द्वारा समायोजन रद्द किये जाने पर प्रदेश भर में शिक्षामित्रों का विरोध प्रदर्शन राज्य सरकार और केंद्र सरकार के खिलाफ लगातार जारी है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से आहत शिक्षामित्रों ने कानपुर में शुक्रवार को फूलबाग स्थित हज़ारों की संख्या में एकजुट होकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पुरजोर विरोध किया। वहीं इस दौरान केंद्र सरकार और राज्य सरकार को आड़े हाथ लेते हुये जमकर नारेबाजी भी की। फूलबाग में हज़ारों की संख्या में शिक्षा मित्रों की बढ़ती संख्या से पुलिस ने मोर्चा संभाला और कलेक्ट्रेट तक उन्हें साथ ले जाया गया। इस दौरान शिक्षा मित्रों ने अपनी मांगो को ज्ञापन के माध्यम से एसीएम द्वारा डीएम तक अपनी बात पहुंचाने के लिए ज्ञापन भी दिया।

यह भी पढ़ें: योगी सरकार के मंत्री के इस बयान से शिक्षामित्रों को राहत की उम्मीद

 

जानिये क्या कहना है शिक्षामित्रों का

बीते दिनों सुप्रीम कोर्ट के फैसले से शिक्षामित्रों का भविष्य अधर में है। जिसको लेकर प्रदेश भर के हर जिलों में हज़ारों की संख्या में शिक्षामित्रों का सड़कों पर विरोध प्रदर्शन जारी है। शिक्षा मित्र सुनीता का कहना है कि जिस तरह हमारे भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है और जो सुप्रीम कोर्ट ने समायोजन रद्द का फैसला सुनाया है उन सभी बातों का हम सभी लोग पुरजोर विरोध करते हैं। सभी दलों ने चुनाव के समय बड़ी बड़ी बातें की थी नौकरी के लिए लेकिन उनकी सारी बाते खोखली निकल रही हैं।

वहीं सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने हम सभी शिक्षामित्रों के ऊपर चाकू घोंपने का काम किया गया है। इस दौरान सभी शिक्षामित्र अपने स्कूल को छोड़कर लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। शिक्षामित्रों ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार की नीतियों से नाखुशी जताते हुए जमकर कलेक्ट्रेट परिसर में भी नारेबाजी की।

यह भी पढ़ें: महराजगंज में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से नाराज शिक्षामित्र सड़क पर उतरे

सभी ने एकजुट होकर अपनी ताकत दिखायी। वही उन्होंने मांग करते हुए जिला प्रशासन के माध्यम से कहा कि हमारी मांगो को जल्द से जल्द पूरा किया जाए अगर इसी तरह चलता रहेगा तो आगे उग्र आंदोलन किया जाएगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार