भूख हड़ताल पर बैठे शिक्षामित्रों ने कहा, सरकार 1 लाख 72 हजार परिवारों के बारे में सोचे

डीएन संवाददाता

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से नाराज शिक्षामित्र फतेहपुर के नहर कॉलोनी में भूख हड़ताल पर बैठ गए। इस दौरान तेज बारिश भी शिक्षामित्रों को डिगा नहीं सकी और उनकी हड़ताल जारी रही।

तेज बारिश भी शिक्षामित्रों को डिगा नहीं सकी
तेज बारिश भी शिक्षामित्रों को डिगा नहीं सकी

फतेहपुर: सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से नाराज शिक्षामित्र रविवार से फतेहपुर के नहर कॉलोनी में भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। शिक्षामित्रों का कहना है कि यह किसी व्यक्ति विशेष की बात नहीं बल्कि एक लाख बहत्तर हजार परिवारों की बात है। इस दौरान तेज बारिश भी शिक्षामित्रों को डिगा नहीं सकी और उनकी हड़ताल जारी रही।

डाइनामाइट न्यूज़ से बात करते हुऐ शिक्षामित्रों ने कहा कि जब बुनियादी शिक्षा अधर में थी तब उसे सबल बनाने में शिक्षामित्रों ने बहुमूल्य योगदान दिया था। सोलह वर्षों से हम अपना योगदान देते चले आ रहें है। जब बुनियादी शिक्षा को सुदृढ बनाना था तब शिक्षा मित्र पात्र थे अब अपात्र कैसे हो गए।

बताया जा रहा है कि आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश ने फ़तेहपुर के डाक बंगले में केंद्रीय राज्यमंत्री और जिले की सांसद साध्वी निरंजन ज्योति से मिलकर उन्हें ज्ञापन दिया। केंद्रीय मंत्री ने शिक्षामित्रों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि योगी सरकार किसी के साथ अन्याय नहीं होने देगी इस मसले का कोई ना कोई हल जरूर निकलेगा।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार