Festive Season: त्योहारों से पहले जनता को लगा बड़ा झटका

डीएन ब्यूरो

त्योहारों का सीजन शुरू होने से पहले आरबीआई ने उपभोक्ताओं को बड़ा झटका दिया है। आरबीआई गवर्नर शक्‍तिकांत दास ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के जरिए कई ऐसी घोषणा की है जिससे हर कोई निराश है। पढ़ें डाइनामाइट न्यूज़ पर पूरी खबर..

आरबीआई गवर्नर शक्‍तिकांत दास (फाइल फोटो)
आरबीआई गवर्नर शक्‍तिकांत दास (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः त्‍योहारी सीजन से पहले रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी)  बैठक के नतीजों का ऐलान हो गया है। इस घोषणा से लोगों की त्योहारी तोहफा मिलने की उम्मीदे खत्म हो गई है। जानिए इस प्रेस कॉन्फ्रेंस की जरूरी बातें।

कोरोना के कारण अर्थव्यवस्था में हुयी गिरावट और त्योहारी सीजन के मद्देनजर मांग बढ़ाने के लिए ब्याज दरों में कमी किए जाने की उम्मीद लगाये लोगों को शुक्रवार को उस समय निराशा हाथ लगी। 

आरबीआई गवर्नर शक्‍तिकांत दास ने बताया कि सभी सेक्‍टर में ग्रोथ देखने को मिल रही है। उन्‍होंने कहा कि अब कोविड रोकने से ज्‍यादा फोकस रिवाइवल पर है। इस दौरान उन्‍होंने बताया कि रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है। मतलब ये कि रेपो रेट चार फीसदी पर बरकरार है।

मौद्रिक नीति समिति की यह तीसरी बैठक पहले 29 सितंबर से एक अक्टूबर तक होनी थी, लेकिन समिति के तीन बाहरी सदस्यों के रूप में नियुक्त डॉ चेतन घाटे, डॉ पम्मी दुआ और डॉ रवीन्द्र ढोलकिया का कार्यकाल 30 सितंबर को समाप्त हो रहा था जिसके कारण इनके स्थान पर नये सदस्यों की नियुक्ति तक बैठक टाल दी गई थी।








संबंधित समाचार