राजस्थान में कहीं बाढ़ तो कहीं सूखा.. अजब है प्रकृति का खेल

डीएन ब्यूरो

राजस्थान में मानसून विदाई की ओर है लेकिन कृषि उत्पादन के लिहाज से राज्य के दो सबसे महत्वपूर्ण जिले हनुमानगढ़ व गंगानगर इस साल भी सामान्य बारिश को तरस रहे हैं।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

जयपुर : राजस्थान में मानसून विदाई की ओर है लेकिन कृषि उत्पादन के लिहाज से राज्य के दो सबसे महत्वपूर्ण जिले हनुमानगढ़ व गंगानगर इस साल भी सामान्य बारिश को तरस रहे हैं। राज्य के 33 में से जिन चार जिलों में इस बार अब तक सामान्य से कम बारिश हुई है उनमें ये दोनों जिले शामिल हैं। बहरहाल, मौसम विभाग को उम्मीद है कि आने वाले दिनों में मानसून इन दोनों जिलों की भी प्यास बुझाकर जाएगा। 

यह भी पढ़ें: डाइनामाइट न्यूज़ यूपीएससी कॉन्क्लेव में दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक, पहुंची तीन वर्षों की महिला टॉपर्स, राष्ट्रपति के सचिव रहे मुख्य अतिथि

जल संसाधन विभाग के ताजा आंकड़ों के अनुसार इस शनिवार तक राज्य के 33 में से केवल चार जिले ऐसे हैं जहां सामान्य से कम बारिश हुई है। इनमें करौली, अलवर, हनुमानगढ़ और गंगानगर शामिल हैं। गंगानगर और हनुमानगढ़ में वैसे ही सामान्य तौर पर बारिश कम होती है। एक जुलाई से 31 अगस्त तक गंगानगर में औसत सामान्य बारिश 169 मिलीमीटर व हनुमानगढ़ में 219 मिलीमीटर रहती है। इस बार यह क्रमश: 109 मिलीमीटर (35.2% कम) तथा 121.43 मिलीमीटर (44.6% प्रतिशत कम) रही है।  

यह भी पढ़ें: राष्ट्रपति के सचिव संजय कोठारी ने कहा- आईएएस की परीक्षा में विषयों का सही चयन बेहद जरुरी

तकनीकी रूप से अगर किसी क्षेत्र में बरसात औसत से 20% से 59% तक कम रहती है तो उसे सामान्य से कम बारिश माना जाता है। उल्लेखनीय है कि राजस्थान की उत्तर पश्चिमी सीमा पर बसे हनुमानगढ़ व गंगानगर जिले को राजस्थान का ‘धान कटोरा’ कहा जाता है क्योंकि भाखड़ा, गंगनहर व राजस्थान कैनाल जैसी तीन-तीन नहर परियोजनाओं से सिंचित इन जिलों में गेहूं, धान के साथ साथ मूंग, मोठ, सरसों व ग्वार की खूब खेती होती है। यह अलग बात है कि औसत बारिश के लिहाज से ये जिले राज्य में निचले पायदान पर हैं। पिछले साल अगस्त महीने में भी गंगानगर व हनुमानगढ़ में बारिश सामान्य से कहीं कम रही थी।

अगर गंगानगर व हनुमानगढ़ जिले में कृषि उत्पादन को देखा जाए तो कृषि विभाग के खरीफ 2018-19 के चौथे अग्रिम अनुमानों के अनुसार गंगानगर जिले में धान का रकबा 10452 हेक्टेयर व उत्पादन 31,654 टन, हनुमानगढ़ जिले में यह क्रमश: 33,485 हेक्टेयर व 1,05,225 टन रहा। वहीं कपास का रकबा व उत्पादन गंगानगर जिले में 1,38,409 हेक्टेयर व 4,97,467 टन तथा हनुमानगढ़ जिले में क्रमश: 1,80,806 हेक्टेयर व 6,55,675 टन रहा । 

विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार रबी 2018-19 के चौथे अग्रिम अनुमानों के अनुसार गेहूं का रकबा व उत्पादन गंगानगर जिले में 2,61,633 हेक्टेयर व 10,93,751 टन तथा हनुमानगढ़ जिले में क्रमश: 2,45,123 हेक्टेयर व 11,95,018 टन रहा। मौसम विभाग जयपुर केंद्र के निदेशक शिवगणेश ने ‘भाषा’ से कहा,‘राज्य में मानूसन सामान्यत: 15 सितंबर तक रहता है । बारिश तो उसके बाद भी होती है।’ उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले दिनों में मौसमी विक्षोभ बनने से 6,7 और 8 सितंबर को इन दोनों जिलों में कुछ स्थानों पर अच्छी बारिश हो सकती है।

जल संसाधन विभाग के ताजा आंकड़ों के अनुसार अगस्त महीने में राज्य के 33 में से 20 जिलों में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। इनमें भी सात जिलों में असामान्य यानी सामान्य से 60% से अधिक बारिश हुई है जिनमें अजमेर, बूंदी, झुंझुनू, नागौर, पाली, राजसमंद व सीकर शामिल हैं। वहीं राज्य के 13 जिलों में सामान्य से अधिक और नौ जिलों में सामान्य बारिश दर्ज की गयी है। (भाषा) 
 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार