मन की बात में बोले पीएम मोदी- बाबा साहेब से प्रेरणा लें देश के युवा

डीएन ब्यूरो

रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के 42वें कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी देशवासियों को किया। जानें, पीएम मोदी ने 'मन की बात' में आज क्या-क्या कहा..

मन की बात में पीएम मोदी (फाइल पोटो)
मन की बात में पीएम मोदी (फाइल पोटो)

नई दिल्ली: रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' के 42वें कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने देशवासियों को संबोधित किया। जानें, पीएम मोदी ने 'मन की बात' में आज क्या-क्या कहा..

देश वासियों को रामनवमी की बधाई देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि राम और रामायण आज भी आसियान देशों में बहुत प्रसिद्ध है। इस बार जब 26 जनवरी को जब आसियान देश आए तो साथ में रामायण ले कर आए थे। लोग आज भी वहां रामायण और भगवान राम को लेकर बात करते हैं।  

देश में बढ़ रही पानी की समस्या को लेकर जिस तरह से युवा चिंतित थे, उससे साफ़ है कि युवा समस्या को लेकर गंभीर है,जोकि हर्ष का विषय है।

पीएम मोदी ने देश में कहा-अनेक प्रेरणा-पुंज मेरे देश का परिचय करवाते हैं। आज पूरे विश्व में भारत की ओर देखने का नज़रिया बदला है। वही उत्तर प्रदेश के प्रेरणास्रोत को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि जब उत्तर प्रदेश की एक महिला अनेकों संघर्ष के बावजूद 125 शौचालयों का निर्माण करती है और महिलाओं को उनके हक़ के लिए प्रेरित करती है - तब मातृ-शक्ति के दर्शन होते हैं।  

इसके अलावा उन्होंने कानपुर के डॉक्टर अजीत मोहन चौधरी की कहानी सुनाते हुए उन्होंने कहा कि जब मुझे कानपुर के डॉक्टर अजीत मोहन चौधरी की कहानी सुनने को मिली कि वो फुटपाथ पर जाकर ग़रीबों को देखते हैं और उन्हें मुफ़्त दवा भी देते हैं - तब इस देश के बन्धु-भाव को महसूस करने का अवसर मिलता है।  

वहीं किसानों को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि आने वाले कुछ महीने किसान भाइयों और बहनों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। इसी कारण ढ़ेर सारे पत्र, कृषि को लेकर के आए हैं। 

वही किसानों की योजनाओ को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस साल के बजट में किसानों को फसलों की उचित क़ीमत दिलाने के लिए एक बड़ा निर्णय लिया गया है। यह तय किया गया है कि अधिसूचित फसलों के लिए एमएसपी, उनकी लागत का कम-से-कम डेढ़ गुणा घोषित किया जाएगा। 

वहीं बापू की 150वीं जयंती को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस वर्ष गांधी जी की 150वीं जयंती की शुरुआत होगी। यह एक ऐतिहासिक अवसर है। ऐसे में आप लोग ऐसा कुछ करें कि हम बापू को यादगार श्रद्धाजंली दे सके।

इस दौरान उन्होंने लोगों से अपील कि वें इस वर्ष गांधी जी की 150वीं जयंती के महोत्सव पर लोगो क्या हो। घोष-वाक्य हो, इस बारे में आप अपने सुझाव दें। इसके अलावा उन्होंने योग दिवस को लेकर भी लोगों से बात की और उनसे अपील की योग दिवस के दिन के ज्यादा से ज्यादा लोग योग से जुड़ सके।  

बाबा साहेब को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि जब 1930 और 1940 में जब देश में सिर्फ सड़क और रेल मार्ग की बात होती थी, तब बाबा साहब ने जलमार्ग और बंदरगाह के निर्माण को लेकर जोर दिया था। उन्होंने देश के युवाओं को लेकर बात करते हुए उन्होंने कहा कि युवाओं को बाबा साहेब से प्रेरणा लेना चाहिये। जिन्होंने साबित किया कि गरीबी और पिछड़े होने के बाद भी आप सफलता हासिल कर सकता है।  
अंत में उन्होंने लोगों को आने वाले पर्व को लेकर लोगों को शुभकामनाएं दी।  

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार