फिर अपराध की राह पर यूपी, मेरठ में पार्षद समेत दो की गोली मारकर हत्या

डीएन संवाददाता

योगी सरकार के प्रयासों का अपराधियों पर कोई प्रभाव पड़ता नहीं दिख रहा है। बदमाशों के हौंसले अब भी बरकार है और वे बैखोफ होकर हिंसक वारदातों को अंजाम दे रहे हैं।

मौके पर मौजूद पुलिस
मौके पर मौजूद पुलिस

मेरठ: अपराधमुक्त राज्य की दिशा में योगी सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों का अपराधियों पर कोई प्रभाव पड़ता नहीं दिख रहा है। बदमाशों के हौंसले अब भी बरकार है, ऐसा ही मामला फिर सामने आया। बदमाशों ने सैलून के भीतर घुसकर पार्षद और उसके रिश्तेदार को गोलियों से भून डाला। रविवार सरेशाम हुए इस दोहरे हत्याकांड से इलाके में सनसनी फैल गई। इसे एक गैंगवार माना जा रहा है। इस हमले में पार्षद की मौके पर ही मौत हो गई जबकि बुरी तरह जख्मी रिश्तेदार ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें: बलरामपुर: अवैध संबंधों के शक में पत्नी की हत्या

कोतवाली थाना इलाके में उस वक्त सनसनी मच गई जब क्षेत्र के पार्षद आरिफ गाजी और उसके साथी शादाब पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं और मौके से फरार हो गए। बदमाशों ने दर्जनों राउंड फायरिंग की। इस हमले में पार्षद की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: बलरामपुर: हैवानियत की हद पार, नाबालिग का अपहरण कर 24 घंटे तक किया दुष्कर्म

वॉर्ड-66 के पार्षद थे आरिफ

कोतवाली क्षेत्र में कुरैशी वाली मस्जिद के पास वॉर्ड-66 के पार्षद आरिफ अपने साथी शादाब के साथ बात कर रहे थे। उसी दौरान दो हथियारबंद बदमाश आए और ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। हमला इतना तेज था कि वहां मौजूद लोग कुछ भी समझ नहीं पाए। अस्पताल ले जाते समय आरिफ की मौत हो गई जबकि उसके दोस्त की मौत अस्पताल में हुई।

यह भी पढ़ें: दीवार तोड़ कर निकाल ले गए टीवी और पंखा

पार्षद ने निर्दलीय से जीता था चुनाव

सूचना मिलते ही एसएसपी मंजिल सैनी के साथ भारी संख्या में पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। बता दें कि मृतक पार्षद आरिफ ने निर्दलीय चुनाव जीता था और बाद में सपा में शामिल हो गए थे।

यह भी पढ़ें: ‘भाई साहब! बाइक गिर गई’ कहकर, लुटेरे उड़ा ले गए कैश बैग

पार्षद की दुश्मनी के आधार पर जांच जारी

एसएसपी मंजिल सैनी ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज और कई बिंदुओं पर पड़ताल करने के निर्देश दिए हैं। डॉग स्क्वॉड और फिंगर प्रिंट दस्ते ने सैंपल भी लिए हैं। एसएसपी के मुताबिक इस घटनाक्रम में हत्या का केस दर्ज कर हत्यारों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं। जल्द ही हत्याकांड का खुलासा किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला है पार्षद की कई लोगों से दुश्मनी चल रही थी इसी के आधार पर पड़ताल की जा रही है।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार