दिल दहलाने वाली वारदात, प्रॉपर्टी के लालच में मां और बहन की चाकू से गला रेतकर कर दी हत्या

डीएन संवाददाता

लखनऊ के इंदिरानगर में एक युवक ने प्रॉपर्टी डीलर दोस्त के साथ मिलकर अपनी मां और बहन की चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी। आखिर क्या था पूरा मामला पढ़िए इस रिपोर्ट में..

पुलिस के गिरफ्त मे हत्यारा
पुलिस के गिरफ्त मे हत्यारा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है जहां एक युवक ने अपनी मां और बहन की चाकू मारकर हत्या कर दी है। हत्या के बाद दो दिनों तक उसने दोनों के शव को आलमारी में बंद करके रखा मामले खुलासा तब हुआ जब आरोपी तीसरे दिन दोनों शवों को जलाने के लिए ले जा रहा था, इसी दौरान पुलिस ने उसे घेर लिया और मौके पर ही गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस के पुछताछ में आरोपी ने अपना नाम रवि बताया जो लखनऊ के इंदिरानगर का रहने वाला है। रवि का कहना है कि वो अपना मकान बेचना चाहता था जिस वजह से उसकी मां से हर दिन लड़ाई झगड़े होते रहते थे। जबकि उसकी मां नहीं चाहती थी कि उनका बेटा ये मकान बेचे। इसी बात को लेकर उनके बीच ये विवाद इतना बढ़ गया कि आरोपी ने पहले तो गमछे से अपनी मां का गला घोटकर मारना चाहा, लेकिन वो मरी नहीं तो उसने चाकू मारकर उनकी हत्या कर दी।

इसी बीच आरोपी की बहन अनामिका घर पहुंची तो वो मां की लाश को देखकर चिखने चिल्लाने लगी। पहले तो आरोपी ने उसे शांत रहने के लिए कहा लेकिन जब वो शांत नहीं हुई तो उसने उसपर भी चाकू से वार किया और उसे भी मौत के घाट उतार दिया।

डबल मर्डर की जानकारी होते ही एएसपी ग्रामीण एएसपी टीजी, सीओ बीकेटी, सीओ गाजीपुर, सीओ महानगर सहित कई अफसर बीकेटी थाने पहुंच गए। पूछताछ में आरोपित ने जुर्म कुबूल कर लिया।

पुलिस का कहना है कि हत्या करने के बाद शव को छुपाने के लिए रवि ने दीवान को 'ताबूत' बना दिया। उसने बेड के सिराहने का हिस्सा काटकर निकाल दिया। सोने के लिए लगी प्लाइ पर कीलें ठोकीं ताकि वह खुले नहीं। शव को अंदर डालने के लिए पैताने की ओर की प्लाई निकालकर जगह बनाई थी। दोनों शव को गद्दे, फिर तीन चादरों में लपेटकर अंदर रख दिया। रात के बजाय दिन में दीवान को घर से निकाला ताकि आस-पड़ोस वाले शक न करें।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)











आपकी राय

#DNPoll क्या आपको लगता है जनता के असली मुद्दों को लेकर मोदी और राहुल के बीच आमने-सामने की डिबेट होनी चाहिये?