भारत और साउथ अफ्रीका के बीच होगा ‘करो या मरो का मुकाबला’..

डीएन संवाददाता

इंग्लैड में खेले जा रहे चैंपियंस ट्रॉफी में रविवार को भारत का मुकाबला दक्षिण अफ्रीका से होगा। भारत के लिए यह करो या मरो वाला मुकाबला होगा।

विराट कोहली और धोनी
विराट कोहली और धोनी

लंदन: चैंपियंस ट्रॉफी में गुरुवार को हुए एक अहम मुकाबले में भारत श्रीलंका से सात विकेट से हार गया। भारत ने अपने पहले मैच में पाकिस्तान पर 124 रनों से जीत हासिल कर धमाकेदार शुरुआत की थी लेकिन इस हार के बाद अब उसके सेमी-फाइनल में पहुंचने पर भी संशय के बादल मंडराने लगे हैं। रविवार यानि 11 जून को भारत का दक्षिण अफ्रीका से मुकाबला है। सेमीफाइनल में जगह बनाने के लिए भारत को साउथ अफ्रीका के खिलाफ किसी भी हाल में मैच जीतना होगा। भारत के लिए यह करो या मरो वाला मुकाबला है।

श्रीलंका के खिलाफ भारत की पेस तिकड़ी पूरी तरह से नाकाम रही। ऐसे में भारतीय कप्तान विराट कोहली दो मैचों के आंकलन के बाद एक और स्पिनर को टीम में जगह दे सकते हैं। ऐसा माना जा रहा है कि पहले दो मैचों से बाहर रहने के बाद भारत के शीर्ष ऑफ स्पिनर आर अश्विन अंतिम एकादश में जगह पा सकते हैं। वहीं दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज़ी कोच नील मैकेंजी का मानना है कि उनकी टीम के खिलाफ वह बेहतर विकल्प होंगे।

यह भी पढ़ें: चैम्पियंस ट्रॉफी: 321 रन बनाने के बाद भी श्रीलंका से क्यों हारी भारतीय टीम?

यह भी पढ़ें:शेन वार्न ने बीसीसीआई को लेकर किया चौंकाने वाला खुलासा..

दक्षिण अफ्रीकी टीम में क्विंटन डि कॉक, जेपी डुमिनी और डेविड मिलर जैसे खब्बू बल्लेबाज हैं जिनके लिए अश्विन परेशानी का सबब हो सकते हैं। मैकेंजी ने अभ्यास मैच के दौरान कहा कि जहां तक रणनीति की बात है तो खब्बू बल्लेबाजों के खिलाफ अश्विन पहली पसंद होंगे क्योंकि दोनों टीमें बहुत अच्छी है और बेहतरीन प्रदर्शन करना होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि टेस्ट मैचों में उनका हमारे खिलाफ अच्छा रिकॉर्ड है लेकिन 2015 में वनडे श्रृंखला हमने जीती थी। यदि भारत हारा तो वो चैंपियन टूर्नामेंट से बाहर हो जायेगा और अगर दक्षिण अफ्रीका हार गई तो दुनिया की नंबर एक टीम बाहर होगी।

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार