PM मोदी ने बनाया इतिहास.. लाल किले की प्राचीर पर दूसरी बार फहराया तिरंगा

डीएन ब्यूरो

देश के लिये 21 अक्टूबर रविवार का दिन ऐतिहासिक बन गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुभाष चंद्र बोस की 75वीं जयंती पर लाल किले की प्राचीर पर तिरंगा फहराकर एक नया कारनामा किया है। डाइनामाइट न्यूज़ की रिपोर्ट में पढ़ें PM मोदी ने कैसा रचा इतिहास


नई दिल्लीः सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व वाली 'आजाद हिंद फौज' की 75वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को लाल किले में आयोजित झंडारोहण समारोह में लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराया। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नेताजी का एक ही उद्देश्य था, एक ही मिशन था  और वो था भारत मां की आजादी। उनकी विचारधारा भी यहीं थी और यहीं उनका कर्मक्षेत्र भी था।      

यह भी पढ़ेंः VIDEO: देखिये, कैसे हुआ अमृतसर रेल हादसा, पल भर में भारी भीड़ को कुचलकर गुजर गई ट्रेन

 

लाल किले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 

 

प्रधानमंत्री मोदी ने 21 अक्टूबर को लाल किले की प्राचीर पर तिरंगा फहराकर किया ये कारनामा  

यह भी पढ़ेंः OMG: महिला कर्मी को OFFICE में हिजाब उतारकर आने की सलाह ले डूबी CEO की नौकरी  

1. देश की आजादी के बाद अब तक जितने भी प्रधानमंत्री हुये हैं सभी ने 15 अगस्त को ही लाल किले पर झंडारोहण किया है। 21 अक्टूबर को देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी प्रधानमंत्री ने इस दिन लाल किले पर तिरंगा फहराया हो।   

 

लाल किले से देश को संबोधित करते पीएम मोदी

 

2.  इसी के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के ऐसे पहले प्रधानमंत्री बन गये हैं जिन्होंने लाल किले की प्राचीर पर 21 अक्टूबर को झंडारोहण किया।

3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झंडारोहण के बाद लाल किले से देश को संबोधित करते हुये कहा कि भारत के 130 करोड़ लोग नये भारत के संकल्प के साथ आगे बढ़े और एक ऐसे नये भारत का निर्माण करें जिसकी कल्पना कभी सुभाष बाबू ने की थी।        

यह भी पढ़ेंः अमृतसर ट्रेन हादसाः गमगीन माहौल में भी आक्रोश, नम आंखों को अब भी अपनों की तलाश 

 

झंडारोहण में भाग लेने पहुंचे लोग

 

4. यह पल इसलिये भी ऐतिहासिक रहा क्योंकि आजाद हिंद सरकार के गठन की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर आयोजित इस कार्यक्रम में नेताजी सुभाष चेंद्रबोस के परिवार के लोग भी शामिल हुये। कार्यक्रम में केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा और आजाद हिंद फौज के कुछ पूर्व सिपाही भी मौजूद थे जो तब सुभाष चंद्र बोस के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुये थे।  

यह भी पढ़ेंः चुनाव आयोग ने निकाली बंपर नौकरियां..सुविधायें और SALARY जानकर रह जायेंगे दंग  

5. सुभाष चंद्र बोस ने आज ही के दिन 21 अक्टूबर 1943 को आजाद हिंद सरकार का गठन किया था। आजाद हिंद सरकार ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी और आजादी की लड़ाई में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार