जीएसटी लॉन्चिंग समारोह में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस और वाम दल का आश्वासन नहीं

डीएन संवाददाता

जीएसटी लागू करने के लिए 30 जून को संसद के केंद्रीय हॉल में आयोजित विशेष आयोजन में शामिल होने को लेकर कांग्रेस और वाम दल की तरफ से अब तक कोई आश्वासन नहीं आया।

अरूण जेटली (फाइल फोटो)
अरूण जेटली (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: माल एवं सेवाकर (जीएसटी) लागू करने के लिए 30 जून को संसद के केंद्रीय हॉल में आयोजित विशेष आयोजन में शामिल होने को लेकर कांग्रेस और वाम दल की ओर से आज कोई आश्वासन नहीं आया।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस इस पर विचार कर रही है कि आयोजन में हिस्सा ले या नहीं। उन्होंने कहा कि उसने अपने हिस्सा लेने को लेकर सरकार को कोई ठोस आश्वासन नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें: मनचलों ने लेडी IPS के मुंह पर छोड़ दिया सिगरेट का धुंआ, आगे क्या हुआ पढ़िए..

पहले की खबरों के अनुसार पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और एच डी देवेगौड़ा के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मंच साझा करने की उम्मीद है।

सुरजेवाला ने कहा, कांग्रेस पार्टी विभिन्न पहलुओं पर गौर कर रही है जिसमें यह भी शामिल है कि किस तरह से जीएसटी लागू किया गया जिससे आम लोगों, असंगठित क्षेत्र और छोटे व्यापारियों को परेशानी हुई।  सूत्रों के अनुसार कांग्रेस नेतृत्व आयोजन में हिस्सा लेने को लेकर बंटा हुआ है, पार्टी के एक वर्ग का मत है कि पार्टी को इससे दूर रहना चाहिए।

यह भी पढ़े: अमिताभ बच्चन को GST का ब्रांड एंबेसडर बनाये जाने पर भड़के व्यापारी

वाम सहित अन्य विपक्षी दलों को इस पर अभी निर्णय करना है कि इसमें हिस्सा लेना है या नहीं।

यह भी पढ़े: यूपी में युवाओं के आए अच्छे दिन, ‘मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना’ प्रारंभ

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री थे उन्होंने इस प्रणाली का विरोध किया। येचुरी ने ट्वीट किया, व्यवस्था ठीक करने से पहले जीएसटी लागू करने में इतनी जल्दबाजी क्यों ?

जबकि भाजपा इसका इतने वर्षो तक विरोध करती रही, विशेष तौर पर गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री। (भाषा)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार