'लालू' के लाल ने खोई राजनीतिक प्रतिष्‍ठा को पाने के लिए बनाई 'तेज सेना'

डीएन ब्यूरो

बिहार में अपनी खिसक चुकी राजनीतिक जमीन को फिर से वापस पाने के लिए लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने 'तेज सेना' का गठन किया है। हालांकि इससे पहले उनके बनाए 'लालू-राबड़ी मोर्चा' ने लोकसभा चुनाव में अपनी ही पार्टी के लिए मुसीबतें बढ़ा दी थीं। पढ़े डाइनामइट न्‍यूज़ की खास खबर...

तेज प्रताप यादव
तेज प्रताप यादव

पटना: राष्‍ट्रीय जनता दल (आरजेडी) मुखिया लालू यादव के लाल तेज प्रताप यादव अपने अचानक लिए गए फैसलों से लगातार चौंकाते रहते हैं। इस बार अचानक उन्‍होंने पिता से मिलने के बाद तेज सेना का आज गठन किया है। हालांकि इससे पहले उनके द्वारा बनाए गए लालू-राबड़ी मोर्चा ने पार्टी के लिए ही मुसीबत खड़ी कर दी थी। 

तेज सेना के गठन को लेकर तेज प्रताप यादव ने एक ट्वीट कर जानकारी दी थी। अपने ट्वीट में उन्‍होंने लिखा था कि तेज सेना परिवर्तन लाने वालों के लिए एक ऑनलाइन प्‍लेटफार्म होगी। उन्‍होंने इससे जुड़ने के लिए युवाओं से खास अपील की है। 

यह भी पढ़ें: लिट्टी-चोखा खाने के लिए होटल छोड़ दोस्त के घर पहुंचे तेज प्रताप.. आई मां राबड़ी की याद

उनके इस नए मंच को लेकर तमाम तरह के कयास लगाए जाने लगे हैं। राजनीतिक हलकों में अपनी पैठ रखने वाले सूत्र बताते हैं कि यह परिवार में अनबन का नतीजा है। इस सबके बावजूद वह लालू यादव की बातों को पूरा मान सम्‍मान देते हैं। ऐसे में क्‍या माना जा सकता है कि इस सेना के लिए लालू प्रसाद यादव ने भी हामी भरी होगी। 

यह भी पढ़ें: सजा काट रहे लालू की बढ़ी मुसीबत.. पहले एसी दे गया था धोखा, अब बाथरूम में नहीं आ रहा पानी

हालांकि इस तरह के संगठन वह पहले भी बनाते रहे हैं। सेना नाम का संगठन वह पहले भी बना चुके हैं, तेज प्रताप ने इसके पहले 'यदुवंशी सेना' बनाई है, जिसके वे राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। 

यह भी पढ़ें: प्रशांत किशोर का राबड़ी देवी पर पलटवार, 'मेरे साथ मीडिया के सामने बातचीत हो जाए, सच सामने आ जाएगा'

हालांकि उनकी नई तेज सेना क्‍या गुल खिलाएगी यह तो वक्‍त ही बताएगा लेकिन इससे उनकी बिहार की खोई राजनीतिक जमीन वापस पाने की बेचैनी स्‍पष्‍ट दिखती है। साथ ही 'तेज सेना' के नाम से स्‍पष्‍ट होता है कि वह अब अपने नाम को लेकर राजनीति में आगे बढ़ना चाहते हैं। 

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार