Yogi Adityanath: अयोध्या प्रकरण में उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर सुरक्षा-व्यवस्था के निर्देश

डीएन ब्यूरो

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या प्रकरण में उच्चतम न्यायालय के सम्भावित फैसले के अलावा त्याहारों के मद्देनजर कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने के अधिकारियों को निर्देश दिए।

फाइल फोटो
फाइल फोटो

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या प्रकरण में उच्चतम न्यायालय के सम्भावित फैसले के अलावा त्याहारों के मद्देनजर कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त करने के अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कायम अमन-चैन और शान्ति के वातावरण को हर हाल में बनाए रखने के लिए अधिकारी पूरी तरह सजग और तत्पर रहें। उन्होंने स्पष्ट किया कि कानून व्यवस्था को प्रभावित करने वाले तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। शरारती तत्वों तथा माहौल खराब करने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखी जाए।

यह भी पढ़ें: अयोध्या फैसले से पहले गृह मंत्रालय ने राज्यों को सतर्क रहने को कहा 

मुख्यमंत्री गुरुवार रात अपने सरकारी आवास पर आयोजित वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी मण्डलों एवं जिलों के वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने अयोध्या सहित प्रदेश के अन्य जिलों की कानून व्यवस्था के सम्बन्ध में समीक्षा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश स्तर पर एक कण्ट्रोल रूम तथा प्रत्येक जिले में 01 कण्ट्रोल रूम स्थापित करते हुए तुरन्त संचालित कर दिया जाए। ये कण्ट्रोल रूम 24 घण्टे लगातार कार्य करेंगे।

यह भी पढ़ें: अयोध्या-बाबरी विवाद पर अदालती फैसले को सभी स्वीकारें : रजा खान

उन्होंने अयोध्या तथा लखनऊ जिले के लिए 01-01 हेलीकाॅप्टर की व्यवस्था तत्काल सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पीस कमेटी की बैठकों के साथ-साथ समाज के विभिन्न वर्गों, धार्मिक गुरुओं, प्रबुद्धजनों, सामाजिक कार्यकर्ताओं आदि के साथ संवाद स्थापित किया जाए। बारावफात के जुलूसों के संचालन की शान्तिपूर्ण व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्वों व त्योहारों की आड़ में अव्यवस्था और अराजकता को किसी भी प्रकार की छूट न मिले। समय रहते कार्रवाई हो।

यह भी पढ़ें: महराजगंज सामाजिक कार्यकर्ता मधुसूदन पांडेय का दुखद निधन, शोक की लहर 

छोटी से छोटी घटना पर ध्यान दिया जाए। सभी वरिष्ठ अधिकारी अपने मण्डलों और जिलों में रात्रि विश्राम निरन्तर करते रहें। फ्लैग मार्च तथा पैदल पेट्रोलिंग की जाए। ट्रैफिक प्लान पहले से तैयार कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि डायल-112 के संचालन में कोई कोताही न हो। रूट चार्ट प्लान बना लिया जाए। व्यापारिक और सार्वजनिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा सुनिश्चित हो। अभिसूचना से जानकारी प्राप्त होने पर तुरन्त कार्रवाई हो। संवेदनशील जिलों व स्थानों पर पूरी सजगता तथा सतर्कता बरती जाए। उन्होंने कहा कि अफवाहों को फैलने से तुरन्त रोका जाए। (वार्ता)

(डाइनामाइट न्यूज़ के ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)






संबंधित समाचार