उन्नाव पीड़िता को तत्काल सुरक्षा क्यों नहीं दी गई: प्रियंका गांधी वाड्रा

डीएन ब्यूरो

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत पर दुख और आक्रोश व्यक्त करते हुए सवाल उठाया कि उन्नाव की पिछली घटना को ध्यान में रखते हुए पीड़िता को तत्काल सुरक्षा क्यों नहीं दी गई?


नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत पर दुख और आक्रोश व्यक्त करते हुए सवाल उठाया कि उन्नाव की पिछली घटना को ध्यान में रखते हुए पीड़िता को तत्काल सुरक्षा क्यों नहीं दी गई?

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेपकांड में पीड़िता के परिजनों को मिल रही हैं धमकियां

प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को ट्वीट कर कहा, “मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि उन्नाव पीड़िता के परिवार को इस दुख की घड़ी में हिम्मत दे। यह हम सबकी नाकामयाबी है कि हम उसे न्याय नहीं दे पाए। सामाजिक तौर पर हम सब दोषी हैं लेकिन ये उत्तर प्रदेश में खोखली हो चुकी कानून व्यवस्था को भी दिखाता है।”

उन्होंने कहा, “उन्नाव की पिछली घटना को ध्यान में रखते हुए सरकार की तरफ से पीड़िता को तत्काल सुरक्षा क्यों नहीं दी गई? जिस अधिकारी ने उसकी एफआईआर दर्ज करने से मना किया उस पर क्या कार्रवाई हुई? उत्तर प्रदेश में रोज रोज महिलाओं पर जो अत्याचार हो रहा है, उसको रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है?”

गौरतलब है कि राष्ट्रीय राजधानी के सफदरजंग अस्पताल में उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की शुक्रवार देर रात मौत हो गई। इससे पहले गुरुवार सुबह उन्नाव में पांच आरोपियों ने उस पर पेट्रोल डालकर जला दिया था। इन आरोपियों में से एक पीड़िता के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म का मुख्य आरोपी भी था।

यह भी पढ़ें: उन्नाव कांड को लेकर प्रदेश भर में क्रोध और रोष, सपा छात्रसभा ने फूंका सीएम का पुतला

सफदरजंग अस्पताल के बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी के अध्यक्ष डॉ. शलभ कुमार ने बताया कि लड़की को गंभीर हालत में पांच दिसंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन कल रात करीब साढ़े आठ उसकी तबियत तेजी से बिगड़ने लगी। डॉक्टरों ने दवाई की डोज भी बढाई लेकिन करीब 11.10 बजे उसे दिल का दौरा पड़ा और 11.40 पर उसने अंतिम सांस ली। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों के भरसक प्रयासों के बावजूद पीड़िता को नहीं बचाया जा सका। (वार्ता) 













संबंधित समाचार